Top
Home > राज्य > उत्तराखण्ड > चमोली: लाकडाउन के दौरान मदिरा की दो दुकानों मे छेड़ छाड़, आज नहीं खुल पाई ग्वालदम और नारायणबगड़ की दुकाने

चमोली: लाकडाउन के दौरान मदिरा की दो दुकानों मे छेड़ छाड़, आज नहीं खुल पाई ग्वालदम और नारायणबगड़ की दुकाने

चमोली: लाकडाउन के दौरान मदिरा की दो दुकानों मे छेड़ छाड़, आज नहीं खुल पाई ग्वालदम और नारायणबगड़ की दुकाने
X

थराली (दैनिक हाक): उत्तराखंड में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हो गयी है करीब एक माह तक अंग्रेजी शराब की दुकानों को बंद रखने के बाद सरकार ने 9 जून ,11 जून और 14 जून को अंग्रेजी शराब की दुकानों को खोलने के निर्देश दिए थे लेकिन पिण्डर घाटी की 4 दुकानों में से पहले दिन महज 2 ही दुकानों पर शराब की बिक्री हुई बाकी 2 दुकाने अनलॉक के आदेश के बाद भी बन्द ही रही ,बाकायदा ग्वालदम और नारायणबगड़ स्थित इन अंग्रेजी शराब की दो दुकानों को सील ही रखा गया

इन दो दुकानों को सील ही रखने के पीछे की वजह जाननी चाही तो स्थानीय लोगो ने बताया कि इन दोनों दुकानों से लॉकडाउन के दौरान दुकान पर सील लगने के बावजूद भी शराब के स्टॉक के साथ छेड़छाड़ करते हुए महंगे दामो पर शराब की बिक्री की गई है

ग्वालदम स्थित अंग्रेजी शराब की दुकान में 10 मई को आबकारी विभाग द्वारा लगाई गई सील के साथ छेड़छाड़ करते हुए शराब व्यवसायी ने चाभी लगाने का तक जुगाड़ निकाल लिया था जिसके बाद स्टॉक से छेड़छाड़ करते हुए बाजार और ग्रामीण क्षेत्रो में इस शराब को अवैध रूप से महंगे दामो में बिक्री किया गया स्थानीय लोग बताते हैं कि ग्वालदम और नारायणबगड़ की दुकानों से भारी मात्रा में शराब निकाल कर अवैध रूप से बेची गयी लेकिन यहां हैरानी वाली बात ये है कि लॉकडाउन के दौरान इतनी भारी मात्रा में शराब अवैध रूप से बेची गयी और पुलिस प्रशासन और आबकारी विभाग को कानो कान भनक तक नही लगी कहा तो यही जा सकता है कि लॉकडाउन में शराब की दुकानों की सील के साथ छेड़छाड़ भी की गई और भारी मात्रा में शराब की 600 रुपये तक की बोतले 1200 से 1500 तक बेची गयी बावजूद इसके धर पकड़ में पुलिस और आबकारी विभाग की नाकामी यही बताती है कि या तो मिलीभगत के जरिये शराब व्यवसायियों ने इस काम को अंजाम दिया या फिर पुलिस और आबकारी के सूत्र पूरी तरह विफल रहे

हालांकि दोनों दुकानों पर स्टॉक से छेड़छाड़ पर क्या कार्यवाही की जाएगी इस मामले में आबकारी विभाग कुछ भी ज्यादा कहने को तैयार नही है लेकिन यहां अब भी एक बड़ा सवाल यही है कि आखिर आबकारी विभाग की देखरेख में दुकानों पर लगी सील कैसे तोड़ी गयी क्या आबकारी विभाग दुकानों को सील करने के बाद चाभी अनुज्ञापि को सौंप देते हैं और अगर ऐसा है तो फिर सील करने का क्या मतलब और कार्यवाही के नाम पर अब भी आबकारी विभाग खामोश क्यों?ज़ब थाना अध्यक्ष थराली ध्वजबीर सिंह पवार से पूछा गया क्या दुकान के स्टॉक के साथ छेड़ छाड़ हुई तो उनका कहना था आबकारी विभाग मे पुलिस का सहयोग लिया था ज़ब हमने दुकान का निरीक्षण किया तो सील के साथ स्टॉक पर भी छेड़ छाड़ की पुष्टि हुई है

वहीं सोशल मीडिया पर ग्वालदम दुकान की सील से छेड़छाड़ की पोस्ट डालने वाले थराली के ज्येष्ठ प्रमुख महावीर शाह की माने तो ग्वालदम स्थित अंग्रेजी शराब की दुकान में लॉक डाउन से पहले शराब आयी थी और जांच के दौरान दुकान में महज 30 से 35 पेटी ही शराब पाई गई ऐसे में ज्येष्ठ प्रमुख थराली महावीर शाह के अनुसार ग्वालदम स्थित दुकान से 100 से 150 पेटी से भी ऊपर स्टॉक में छेड़छाड़ हुई है जबकि आबकारी महकमा स्टॉक में केवल साढ़े पांच पेटी की छेड़छाड़ होने की दुहाई दे रहा है ऐसे में थराली विकासखण्ड के ज्येष्ठ प्रमुख महावीर शाह ने आबकारी विभाग और प्रशासन पर मिलीभगत का आरोप लगाया है अब देखना ये होगा आबकारी विभाग इन दुकानों पर क्या कार्यवाही करता है।

Updated : 9 Jun 2021 10:25 AM GMT
Next Story
Share it
Top