Top
Home > राज्य > उत्तराखण्ड > बेरीनाग: कोरोना पॉजिटिव मरीज को बचाने के लिए डाक्टर और नर्सिंग आफिसर ने जान रखी हथेली पर

बेरीनाग: कोरोना पॉजिटिव मरीज को बचाने के लिए डाक्टर और नर्सिंग आफिसर ने जान रखी हथेली पर

बेरीनाग: कोरोना पॉजिटिव मरीज को बचाने के लिए डाक्टर और नर्सिंग आफिसर ने जान रखी हथेली पर
X

देर रात्रि को भटके रास्ता

बेरीनाग (): डाक्टर को धरती के भगवान कहा जाता है लेकिन विकास खंड बेरीनाग में शुक्रवार देर रात्रि 1 बजे दूरस्थ क्षेत्र दडमोली गांव में एक व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव होने की सूचना आई। ड्यूटी में तैनात डां संदीप और नर्सिंग आफिसर मनोज खडायत ने अस्पताल के एम्बुलेंस लेकर दडमोली गांव को चले गये। डाक्टर संदीप ने खुद वाहन चालक की भूमिका निभाई। देर रात्रि को 2 बजे गांव से जब पांजिटिव व्यक्ति को लेकर कोविड केंयर सेंटर चौकोडी आ रहे थे। कच्ची सडक होने के कारण और देर रात्रि होने के कारण रास्ता भटक गये और जिस स्थान में पहुंचे वहां पर मोबाइल कोई नेटवर्क भी नही था। एम्बुलेंस में कोविड मरीज की हालत भी बिगड़ रही थी। उसका भी उपचार करने के साथ ही रास्ता भटकने से परेशानी खडी हो गयी।कच्ची सड़क से बडी मुश्किल सही मार्ग में पहुंचे। देर रात्रि तीन बजे कोविड सेंटर चौकोडी पहुंचे ।जहां पर कोविड के मरीज को भर्ती करने के साथ उसका उपचार किया। डाक्टर संदीप और मनोज खडायत ने बताया उन्होंने कोविड मरीज को बचाना पहला कर्त्तव्य था। मरीज कोविड सेंटर में लाकर पूरी तरह से स्वस्थ्य हो गया है अब कोई परेशानी नहीं। रास्ता भटकने और मोबाइल का नहीं होने से कुछ पल के घबरा गये थे। लेकिन हिम्मत नही हारी।कुछ परेशानी के बाद सब ठीक हो गया। इधर डाक्टर संदीप नर्सिंग आफिसर मनोज खडायत के इस प्रयास स्वास्थ्य विभाग सहित विभिन्न संगठनों ने सराहना की है।

Updated : 15 May 2021 11:54 AM GMT
Next Story
Share it
Top