Top
Home > खेल > क्रिकेट > भारत ने पहले एकदिवसीय मैच में न्यूजीलैंड को आठ विकेट से हराया

भारत ने पहले एकदिवसीय मैच में न्यूजीलैंड को आठ विकेट से हराया

भारत ने पहले एकदिवसीय मैच में न्यूजीलैंड को आठ विकेट से हराया
X

मैन ऑफ द मैच : शमी
नेपियर: भारत ने अपने न्यूजीलैंड दौरे की शानदार शुरुआत करते हुए अपने पहले ही मैच में शानदार गेंदबाजी और बल्लेबाजी करते हुए मेजबान टीम को आठ विकेट से हरा दिया। इस प्रकार पांच एकदिवसीय मैचों की क्रिकेट श्रृंखला में भारतीय टीम ने 1-0 की बढ़त हासिल कर ली है। इस मैच में न्यूजीलैंड की टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 38 ओवर में ही 157 रन बनाये। तेज रोशनी के कारण मैच रोके जाने के कारण भारत को 49 ओवर में 156 रन का लक्ष्य मिला जिसे भारतीय टीम ने 2 विकेट के नुकसान पर 34.5 ओवर में ही 156 रन बनाकर हासिल कर लिया। भारतीय टीम के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने 75 रनों की नाबाद पारी खेली।
धवन ने 103 गेंदों पर 75 रन की नाबाद पारी खेली। उन्होंने अपनी पारी में 6 चौके लगाए। वहीं विराट कोहली ने 59 गेंदों पर 3 चौकों की मदद से 45 रन बनाए। शिखर और विराट ने दूसरे विकेट के लिए 91 रन की साझेदारी कर टीम को आसानी से जीत की दहलीज पर पहुंचा दिया। विराट दूसरे विकेट के रूप में लोकी फर्ग्युसन का शिकार बने। उन्हें विकेट के पीछे लैथम ने आउट किया। वहीं सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा को 11 रनों पर ही ब्रेसवेल की गेंद पर आउट हो गये। अंबाति रायुडू 13 रनों पर नाबाद रहे। रायुडू और धवन ने बिना किसी और नुकसान के टीम को लक्ष्य तक पहुंचाया।
इस मैच में शानदार गेंदबाजी कर मेजबानों की सलामी जोड़ी को पेवेलियन भेजने वाले भारतीय टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी को मैन ऑफ द मैच का इनाम दिया गया। शमी ने 19 रन देकर तीन विकेट लिए।
वहीं इससे पहले भारतीय गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए मेजबान टीम को 38 ओवर में 157 रनों पर ही समेट दिया। भारत की ओर से कुलदीप यादव ने 39 रन देकर चार, मोहम्मद शमी ने 19 रन देकर तीन और युजवेन्द्र चहल ने 43 रन देकर दो विकेट लिए। इस मैच में मेजबान टीम के कप्तान केन विलियमसन ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी का फैसला किया जो सही साबित नहीं हुआ। कीवी टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही। पारी की शुरुआत में ही तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने पहले तीन ओवरों में दोनों सलामी बल्लेबाजों को पेवेलियन भेजकर कीवियों को करारा झटका दिया। शमी ने ये दोनों विकेट अपनी पहली नौ गेंदों में ही ले लिए। पहले ओवर में उन्होंने मार्टिन गुप्टिल (5 रन) को पेवेलियन भेजा। वहीं दूसरे ओवर में उन्होंने कॉलिन मुनरो (9 रन) को भी आउट कर दिया। इसके बाद कप्तान केन विलियमसन और रॉस टेलर से मेज़बान टीम को उम्मीदें थीं. दोनों बल्लेबाज़ टीम को 52 के स्कोर तक भी लेकर गए पर इसके बाद युजवेन्द्र चहल की फिरकी के सामने टेलर टिक नहीं पाये। चहल ने पहले उन्होंने टेलर (24 रन) को अपनी ही गेंद पर कैच किया। इसके बाद उन्होंने 11 के स्कोर पर लैथम को भी इसी प्रकार पेवेलियन भेज दिया।
वहीं एक छोर पर कप्तान विलियमसन जमे रहे जबकि दूसरे छोर पर बल्लेबाज़ एक के बाद एक पेवेलियन लौटते गये। निकल्स ने केन के साथ टीम को 100 रनों के पार पहुंचाया ही था कि केदार जाधव की गेंद पर निकल्स भी आउट हो गये। उन्होंने 17 गेंदों का सामना किया 12 रन बनाए। इसके बाद शमी ने मिशेल सैंटनर 14 रन को आउट कर अपना तीसरा विकेट लिया। इस दौरान विलियमसन ने अपना 36वां अर्धशतक पूरा किया।
लेकिन 146 के स्कोर पर वही भी कुलदीप की गेंद पर विजय शंकर के हाथों कैच हो गये। विलियमसन ने 81 गेंदों में 7 चौकों के साथ 64 रन बनाए। इसके बाद न्यूज़ीलैंड की पारी सिमट गई। ब्रेसवेल 7 रन और फर्ग्यूसन खाता भी नहीं खोल पाये। आखिर में बोल्ट को स्लिप में कैच करवाकर कुलदीप ने चौथा विकेट भी पूरा किया। शमी ने 6 ओवरों में 19 रन देकर 3 विकेट लिए। वहीं कुलदीप ने अपने पूरे 10 ओवर के स्पेल में 39 रन देकर 4 विकेट अपने नाम किए जबकि चहल ने 10 ओवरों में 43 रन दिए 2 अहम विकेट लिए।
टीम इंडिया ने इस मैच में अपने अंतिम ग्यारह में अंबाती रायुडू और कुलदीप यादव को शामिल किया है, इन दोनों को दिनेश्‍ा कार्तिक और रवींद्र जडेजा की जगह टीम में शामिल किया गया है।
पहली बार सूरज के कारण रुका खेल
यह सुनने में अजीब लगता है पर भारत और न्यूजीलैंड के बीच पहले एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच के दौरान डिनर के बाद सूरज के कारण खेल रोकना पड़ा। मैक्लीन पार्क में सूरज की तेज रोशनी सीधी बल्लेबाजों की आंखों पर पड़ रही थी, जिसके कारण उनके लिए गेंद देख पाना बेहद कठिन हो गया था। इसके कारण खेल रोकना पड़ा। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में इससे पहले ऐसा कभी नहीं हुआ।
मैदानी अंपायर शॉन जॉर्ज ने बताया कि खिलाड़ियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए खेल रोकने का फैसला किया गया। अंपायर ने कहा, 'डूबते हुए सूरज की रोशनी खिलाड़ियों की आंखों पर पड़ रही थी और हमें उनकी और अंपायरों की सुरक्षा के बारे में सोचना था। खिलाड़ियों को भी इसकी जानकारी थी।' सूरज के कारण यहां घरेलू प्रतियोगिताओं के दौरान भी खेल रोका गया है। कथित तौर पर इंग्लैंड के कुछ मैदानों पर भी ऐसा हुआ है, लेकिन इनमें से कोई भी अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं था।

Updated : 23 Jan 2019 7:28 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top