हैदराबाद: कांग्रेस की भारत जोड़ों यात्रा वरिष्ठ नेता राहुल गांधी के नेतृत्व में निकल रही है। इस दौरान तेलंगाना के नारायणपेट में एक जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) पर खरीद फरोख्त कर सरकारों को गिराने का आरोप लगाया है। राहुल गांधी का कहना है कि दोनों पार्टियां एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। उन्होंने कहा कि यह लोकतांत्रिक मूल्य के खिलाफ है और पैसे की राजनीति में लिप्त है।

राहुल गांधी ने कहा कि लोगों को यह समझाने की जरूरत है कि टीआरएस और बीजेपी दोनों एक ही हैं। टीआरएस दिल्ली में बीजेपी की मदद करती है और बीजेपी तेलंगाना में टीआरएस की मदद करती है। दोनों ही पार्टियां लोकतंत्र के खिलाफ हैं और पैसे की राजनीति में लिप्त है। ये विधायकों को खरीदकर पैसे की राजनीति करते हैं। बता दें कि, केसीआर की पार्टी टीआरएस के चार विधायकों को खरीदने की कोशिश का पुलिस ने भंडाफोड़ किया और इस मामले में तीन लोगों को हिरासत में लेने के बाद गिरफ्तार कर लिया था। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, टीआरएस के जिन विधायकों को खरीदने की कोशिश की गई है उनमें पायलट रोहित रेड्डी, रेगा कंथाराव, गुववाला बलाराजू, बीरम हर्षवर्धन शामिल हैं।  

इसके बाद टीआरएस ने आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी हमारे चार विधायकों को तोड़ने का प्रयास कर रही है और ऐसा करने वालों को रंगे हाथों पकड़ लिया गया है। उन्होंने कहा टीआरएस के विधायक बिकने वाले नहीं हैं। टीआरएस की ओर से खरीद-फरोख्त के आरोपों भाजपा ने पलटवार किया। भाजपा नेता जी किशन रेड्डी ने इन आरोपों का खडंन किया और कहा कि यह टीआरएस के डर को दर्शाता है और उच्च न्यायालय के मौजूदा न्यायाधीशों द्वारा जांच की मांग की। बीजेपी का उन तीन लोगों से क्या संबंध है, जिन्होंने कहा था कि 100 करोड़ रुपये दिए जाएंगे? एक विधायक के चले जाने से क्या टीआरएस सरकार गिर जाएगी?

राहुल गांधी के नेतृत्व वाली ‘भारत जोड़ो यात्रा' शुक्रवार को तेलंगाना के नारायणपेट जिले के येलिगंदला से फिर से शुरू हुई और इसके 23.3 किलोमीटर की दूरी तय करने की उम्मीद है। कांग्रेस पार्टी के सूत्रों ने बताया कि ‘भारत जोड़ो यात्रा' शुक्रवार रात को महबूबनगर में रुकेगी। राज्य में यात्रा का यह तीसरा दिन है। पार्टी सूत्रों के अनुसार, गुरुवार को मकथल की श्री बालाजी फैक्टरी में रात्रि विश्राम लेने से पहले ‘भारत जोड़ो यात्रा' ने 26.7 किलोमीटर की दूरी तय की। सात नवंबर को महाराष्ट्र में प्रवेश करने से पहले यात्रा तेलंगाना के नौ लोकसभा और 19 विधानसभा क्षेत्रों से गुजरते हुए कुल 375 किलोमीटर की दूरी तय करेगी। चार नवंबर को यात्रा एक दिन का विराम लेगी। 



Related news