नयी दिल्ली: सार्वजनिक क्षेत्र की बिजली कंपनी एनटीपीसी ने शुद्ध रूप से शून्य ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन रूपरेखा तैयार करने के लिए नीति आयोग के साथ आशय पत्र पर हस्ताक्षर किये हैं।


इस पहल का मकसद देश के बिजली क्षेत्र को हरित यानी पर्यावरण अनुकूल बनाना है। आशय पत्र संबंधित पक्षों के बीच सहयोग के ढांचे को औपचारिक रूप प्रदान करेगा।


एनटीपीसी ने बृहस्पतिवार को बयान में कहा, ‘‘बिजली कंपनी ने शुद्ध रूप से शून्य ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन में कमी लाने के लिये नीति आयोग के साथ आशय पत्र पर हस्ताक्षर किये हैं।’’


भारत सरकार ने जलवायु परिवर्तन सम्मेलन के दौरान ‘पंचामृत’ लक्ष्यों की घोषणा की है। उसके साथ नीति आयोग 2070 तक शुद्ध रूप से शून्य कार्बन उत्सर्जन के लक्ष्य को पूरा करने के लिये रूपरेखा पर काम कर रहा है।


बयान के अनुसार, इस गठजोड़ के जरिये एनटीपीसी नीति आयोग की ऊर्जा टीम की विशेषज्ञता का उपयोग कर सकेगी।


—भाषा




Related news