कर्नाटक सरकार ने जारी की एडवाइजारी 

बेंगलुरु: कर्नाटक सरकार ने महाराष्ट्र में कोरोना का नया उप-स्वरूप सामने आने के बाद परामर्श जारी कर राज्य के लोगों से कोविड उपयुक्त व्यवहार अपनाने की अपील की है। स्वास्थ्य विभाग ने लोगों को सलाह दी है कि सर्दी, जुकाम और बुखार जैसे लक्षण होने पर नजदीकी अस्पताल में अपनी जांच करके रिपोर्ट आने तक पृथकवास में रहें। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण आयुक्तालय ने कहा, महाराष्ट्र में कोरोना के एक्सबीबी के अलावा नए उप-स्वरूपों बीक्यू.1 (अमेरिकी स्वरूप), बीए.2.3.20 जोकि बीए.2.75 और बीजे.1 से मिलकर बने हैं, के सामने आने और दिवाली तथा कन्नड़ राज्योत्सव के त्यौहारी सीजन के मद्देनजर आम जनता के लिए परामर्श जारी किया जाता है। ’’

विभाग ने कहा, जिन्हें बुखार, सर्दी, जुकाम, गला खराब, सांस लेने में दिक्कत आ रही है, वे अनिवार्य रूप से तत्काल नजदीकी अस्पताल या स्वास्थ्य केन्द्र से जांच (रैपिड एंटीजन) कराएं, और उसके नेगेटिव आने पर आरटी-पीसीआर कराएं और रिपोर्ट आने तक पृथकवास में रहें। जिन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही है, तत्काल डॉक्टरी सहायता लें, संभव हो तब अस्पताल पहुंचें। परामर्श में कहा गया है, बंद जगहों, जहां एसी चल रहा हो, जिन जगहों पर वायु संचरण की पर्याप्त व्यवस्था ना हो या भीड़भाड़ वाली जगहों पर मास्क (एन-95 या मेडिकल मास्क) लगाएं। यह आवश्यक है कि सभी बुजुर्ग और अन्य बीमारियों से ग्रस्त लोग सार्वजनिक स्थानों पर मास्क लगाएं।’’

विभाग ने लोगों से त्यौहार घरों में मनाने और भीड़ वाली जगहों पर जाने से बचने की सलाह दी है। साथ ही जिन लोगों को अभी तक टीके की एहतियाती खुराक (बूस्टर डोज) नहीं लगी है, उन्हें जल्दी इंजेक्शन लगाया जाएगा। परामर्श के अनुसार,60 साल या उससे ज्यादा उम्र के लोगों और जो बीमार हैं, उन्हें पहले टीका (बूस्टर डोज) लगाया जाना आवश्यक है। जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है, जो रोग प्रतिरोधक क्षमता घटना वाली दवाएं ले रहे हैं, किडनी की बीमारी है, कैंसर की दवाएं ले रहे हैं, आदि को अपने डॉक्टर से परामर्श कर तत्काल इंजेक्शन लगवाने की सलाह दी जाती है।






Related news