नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता स्मृति ईरानी की बेटी पर कांग्रेस नेताओं ने गोवा में बार चलाए जाने के झूठे आरोप लगाए थे। स्मृति ईरानी ने अब कांग्रेस के कई नेताओं को कानूनी नोटिस भेजा है। 

स्मृति ईरानी ने उनकी 18 साल की बेटी पर टिप्पणी करने वाले कांग्रेस नेताओं पवन खेड़ा, जयराम रमेश, नेता डिसूजा और कांग्रेस को कानूनी नोटिस भेज उनसे बिना शर्त लिखित माफी मांगने और आरोपों को तत्काल प्रभाव से वापस लेने का कहा है। कांग्रेस नेताओं ने स्मृति ईरानी की बेटी के गोवा में बार होने का गंभीर आरोप लगाया था। 

स्मृति ईरानी ने कांग्रेस के आरोपों को झूठा बता चुकी हैं। उन्होंने शनिवार को कहा था कि उनकी बेटी 18 साल की है। बेटी कॉलेज की प्रथम वर्ष की छात्रा है और किसी बार का संचालन नहीं कर रही है। स्मृति ईरानी ने कहा कि कांग्रेस ऐसे आरोप लगाकर उनकी बेटी की चरित्र हत्या कर रही है। केंद्रीय मंत्री ने राहुल गांधी को दोबारा अमेठी से चुनाव लड़ने की चुनौती देते हुए कहा था कि वो दोबारा उन्हें हराएंगी। 

ज्ञात रहे कि कांग्रेस ने शनिवार को आरोप लगाया था कि स्मृति ईरानी की बेटी गोवा में 'गैरकानूनी बार' चला रही हैं। विपक्षी पार्टी ने पीएम मोदी से गुजारिश की थी कि वो केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री को बर्खास्त करें। हालांकि, स्मृति ईरानी की बेटी की ओर से इन आरोपों को पहले ही खारिज कर दिया गया है।

केंद्रीय मंत्री की पुत्री के वकील कीरत नागरा ने कहा, उनकी मुवक्किल 'सिली सोल्स' नामक रेस्तरां की न तो मालकिन हैं और न ही इसका संचालन करती हैं।



Related news