मुंबई: भारतीय रिजर्व बैंक ने बुधवार को नकद आरक्षित अनुपात (सीआरआर) 0.50 प्रतिशत बढ़ाकर 4.5 प्रतिशत कर दिया। यह वृद्धि 21 मई से प्रभावी होगी। इससे बैंकों में 87,000 करोड़ रुपये की नकदी कम होगी।


बिना तय कार्यक्रम के रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक बुधवार को आयोजित की गई। बैठक में रिजर्व बैंक गवर्नर शक्तिकांत दास ने सीआरआर बढ़ाये जाने की घोषणा की।


सीआरआर से आशय बैंक की उस जमा से है, जिसे बैंकों को नकद रूप में केंद्रीय बैंक के पास रखने की जरूरत होती है।


एमपीसी ने रेपो दर भी 0.40 प्रतिशत बढ़ाकर 4.4 प्रतिशत करने का निर्णय किया है।



Related news