ऋतुपर्ण दवे*


पंजाब में दिन दहाड़े लोकप्रिय पंजाबी गायक सिध्दू मूसेवाला की हत्या के बाद सुरक्षा को लेकर तमाम तरह के दावों की पोल खुलती नजर आ रही है। हालांकि हत्या को आपसी गैंगवार से भी जोड़कर देखा जा रहा है। लेकिन बड़ा सवाल यह कि उड़ता पंजाब क्या हत्यारा पंजाब भी बनने जा रहा है? इस हत्याकाण्ड को कतई साधारण नहीं कहा जा सकता। जिस तरह विदेश और जेल में बैठे गैंगस्टर ताल ठोंककर जिम्मा ले रहे हैं यहां तक कि फेसबुक पेज पर भी खुले आम हत्या की जिम्मेदारी ले रहे हैं उससे कई तरह के सवाल और बड़ी चुनौतियाँ खड़ी हो रही हैं। मजबूत साइबर प्रणाली के दावों के बाद भी अपराधियों की विदेश छोड़िए देश में दी जा रही चुनौतियाँ उससे भी बड़ा जेल के अन्दर से ही गेंग ऑपरेट करना शर्मनाक और बड़ा सवाल है। अगर ऐसा है तो कहीं न कहीं यह खुफिया और साइबर तंत्र की बहुत बड़ी नाकामीं है। विदेश से धमकी देना या कुबूलनामा थोड़ा समझ भी आता है। लेकिन राजस्थान के अजमेर जेल में बन्द गैंगस्टर का नाम जुड़ना बहुत बड़ी चूक, लापरवाही या साजिश या मिलीभगत कुछ भी हो सकती है जो हैरान और परेशान करता है। ऐसे चलन को रोकना ही होगा जिसमें हत्या के बाद जवाबदारी लेना ताल ठोंकना और सोशल मीडिया पर लिखना अपराधियों की दहशत व उनके खौफ को बढ़ाता है। लगता नहीं कि यह राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ बेमानी है? ऐसे तत्वों, सहयोगियों, साजिशकर्ताओं को पहचान होगा। हो सकता है कि अपराधी के साथ सरकारी मुलाजिम भी मिले हों जिनके साथ सख्त और वैसी कार्रवाई हो जो कई राज्यों में बुलडोजर के जरिए अंजाम दी जा रही है। इससे अपराधियों के साथ मुलाजिमों भी डर पैदा होगा। अब वाकई कड़े और फौरन प्रभावी कानूनों की जरूरत है। कानून को चुनौती देना अब अमन पसंद लोगों को भाता नहीं है। लेकिन यह हरकतें रुक नहीं रहीं है जो चिन्ता बढ़ाती हैं। इस पर पूरी गंभीरता और जिम्मेदारी से सोचने की जरूरत है। आखिर जब हम बहुत तेजी से विकसित सूचना तकनीक और साइबर प्रणाली से लैस हो रहे हैं। हर रोज नए से नए संसाधन और तंत्र विकसित हो रहे हैं। ऐसे में भी अपराधियों का जेल में सुरक्षित बैठकर अपनी हरकतों को अंजाम देना बहुत बड़ा सवालिया निशान है। नशे के लिए पहले से ही बदनाम पंजाब अब फिरौती के नए तौर तरीकों को लेकर हर किसी के निशाने पर है। माना कि सरकार नई-नई है। लेकिन चुनौतियां तो पुरानी हैं। ऐसे में एकाएक तमाम लोगों को दी गई सुरक्षा एक झटके में हटा लेना और दूसरे ही दिन हत्या हो जाना भी मुख्यमंत्री के गले की फाँस बनेगा। मूसेवाला समेत 424 लोगों की पुलिस सुरक्षा उनकी हत्या से 24 घण्टे पहले ही वापस ले ली गई थी। अब कहा जा रहा है कि उनको 2 कमाण्डो दिए हुए थे। मूसेवाला की हत्या और बीते दो महीने में दो कबड्डी खिलाड़ियों की हुई हत्या से भी पंजाब दहल उठा था। अंतरराष्ट्रीय कबड्डी खिलाड़ी संदीप सिंह नंगल की 14 मार्च को जालंधर में और 5 अप्रेल को पटियाला स्थित यूनिवर्सिटी परिसर के बाहर ढाबे पर दूसरे कबड्डी खिलाड़ी धर्मिन्दर सिंह की हुई हत्या से भी पंजाब की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठे थे। निश्चित रूप से पंजाब में जो हो रहा है वह सरकार और देश के लिए अच्छा नहीं है। माना कि सरकार की नीयत ठीक है। वह पंजाब के लिए कुछ करना चाहती है। लेकिन पंजाब के अतीत को देखते हुए सरकार और सत्तारूढ़ पार्टी के मुखिया के उपदेश से हालात नहीं सुधरने वाले। सबसे पहले कठोरतम फैसले लेने होंगे। पंजाब की सुरक्षा व्यवस्था, सियासत और पुराने घटनाक्रमों को देखने के बाद इतना तो समझ आता है कि सब कुछ वैसा आसान नहीं है जैसा बताने का प्रयास किया जाता है। निश्चित रूप से प्रदेश की सरकार को केन्द्र के साथ इस मसले पर बहुत ही संजीदगी से मिलकर काम करना होगा और पंजाब में चाहे आतंकवाद की जड़ें, गैंगस्टर वार या फिरौती वसूली की घटनाओं पर सख्ती से काम करना होगा। कम से कम इतना तो करना ही होगा कि जेल में बैठे किसी आका का नाम दोबारा न आए और जितने भी बड़े और खूंखार अपराधी जेल में हैं उनको लेकर केन्द्र के साथ नई समीक्षा की जाए। ऐसे अपराधियों को संरक्षण देने और जेल से गैंग ऑपरेट करने जैसी चुनौतियों से नए साइबर युग में सख्ती से निपटना ही होगा। इसके लिए भले ही नया कानून बने या तुरंत अध्यादेश लाया जाए। ऐसे डराने या गलत संदेश देने वाले सोशल मीडिया एकाउण्ट को तो फौरन निष्क्रिय किया ही जा सकता है। कम से कम देश में वह भी जेल में बैठे अपराधियों के बारे में ऐसी जानकारियां बेचैन करती हैं।—दैनिक हाक फीचर्स 


*लेखक स्वतंत्र पत्रकार और स्तंभकार



Related news