मुंबई: अमरावती से निर्दलीय सांसद नवनीत राणा को रविवार लीलावती अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। अस्पताल से बाहर आते वक्त उनके हाथ में हनुमान चालीसा दिखी। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि हनुमान चालीसा पढ़ने के लिए मैं 14 दिन तो क्या 14 साल भी जेल में रहने को तैयार हूं। नवनीत ने कहा कि मैं सीएम उद्धव ठाकरे को चुनौती देती हूं कि वे महाराष्ट्र में कहीं से भी चुनाव लड़ें और मैं उनके खिलाफ खड़ी होऊंगी।

 नवनीत राणा ने कहा कि आने वाले निगम चुनाव में मैं पूरी ताकत के साथ जनता के बीच जाऊंगी। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में महाराष्ट्र की जनता उद्धव ठाकरे को बताएगी हनुमान का नाम और श्रीराम का नाम लेने वालों को परेशान करने का क्या परिणाम होते हैं। मातोश्री में हनुमान चालीसा का पाठ करने की जिद्द से विवाद में आईं निर्दलीय सांसद नवनीत राणा और उनके विधायक पति रवि राणा को 13 दिन बाद 5 मई को जेल से रिहा किया गया था। नवनीत राणा की तबीयत ठीक नहीं होने के कारण उनको लीलावती अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। मुंबई सेशन कोर्ट ने जमानत देते हुए राणा दंपति के लिए कई शर्तें रखीं। कोर्ट के आदेश के मुताबिक राणा दंपति मीडिया से बात नहीं कर सकते और सबूतों के साथ छेड़छाड़ नहीं कर सकते। कोर्ट ने यह भी हिदायत दी कि दंपति दोबारा ऐसा कोई अपराध नहीं करेंगे।



Related news