नयी दिल्ली: मई माह में माल एवं सेवा कर (जीएसटी) संग्रह एक साल पहले की समान अवधि की तुलना में 44 प्रतिशत बढ़कर करीब 1.41 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया।


वित्त मंत्रालय ने बुधवार को मई, 2022 के जीएसटी संग्रह के आंकड़े जारी करते हुए यह जानकारी दी।


आंकड़ों के मुताबिक, मई, 2022 में सकल जीएसटी राजस्व संग्रह 1,40,885 करोड़ रुपये रहा।


यह आंकड़ा पिछले दो माह के जीएसटी संग्रह से कम है। अप्रैल में जीएसटी संग्रह 1.68 लाख करोड़ रुपये के रिकॉर्ड स्तर पर रहा था। उसके पहले मार्च, 2022 में जीएसटी संग्रह 1.42 लाख करोड़ रुपये रहा था।


वित्त मंत्रालय ने बयान में कहा, ‘‘मई के 1,40,885 करोड़ रुपये के जीएसटी संग्रह में केंद्रीय जीएसटी (सीजीएसटी) का हिस्सा 25,036 करोड़ रुपये रहा। राज्य जीएसटी (एसजीएसटी) संग्रह 32,001 करोड़ रुपये और एकीकृत जीएसटी (आईजीएसटी) संग्रह 73,345 करोड़ रुपये रहा। इसके अलावा 10,502 करोड़ रुपये का उपकर भी जुटाया गया।’’


मई, 2022 के लिए राजस्व संग्रह मई, 2021 की तुलना में 44 प्रतिशत बढ़ गया। एक साल पहले के समान महीने में जीएसटी संग्रह 97,821 करोड़ रुपये रहा था।


जुलाई, 2017 में जीएसटी प्रणाली लागू होने के बाद से यह चौथा मौका है जब मासिक जीएसटी संग्रह 1.40 लाख करोड़ रुपये से अधिक रहा है।


वित्त मंत्रालय के मुताबिक, अप्रैल में कुल 7.4 करोड़ ई-वे बिल निकाले गए, जो मार्च के 7.7 करोड़ ई-वे बिल से करीब चार प्रतिशत कम है।

—भाषा



Related news