नयी दिल्ली/मुंबई: दिल्ली के महरौली इलाके में एक वीभत्स घटना में एक व्यक्ति ने अपनी सहजीवन साथी (लिव-इन पार्टनर) की गला घोंटकर कथित रूप से हत्या कर दी, उसके शव के करीब 35 टुकड़े कर उन्हें लगभग तीन सप्ताह तक 300 लीटर की क्षमता वाले फ्रिज में रखा एवं एक के बाद एक कर उन्हें राष्ट्रीय राजधानी के विभिन्न हिस्सों में फेंक दिया। पुलिस ने सोमवार को यह जानकारी दी।


अधिकारियों ने बताया कि आफताब अमीन पूनावाला की गिरफ्तारी के बाद यह नृशंसा घटना छह माह बाद सामने आयी। उनके अनुसार महिला के शव के कटे हुए कुछ हिस्से मिले हैं तथा पुलिस हत्या में प्रयुक्त हथियार तलाश रही है।


विश्वासघात और छल की इस दु:खद घटना में आरोपी आफताब, जो एक प्रशिक्षित बावर्ची (शेफ) है, अपराध करने के छह महीने तक बचता रहा। पूछताछ में उसने बताया कि हत्या को अंजाम देने के बाद वह उसी घर में रह रहा था, जहां वे दोनों साथ रहते थे। उससे पूछताछ में हत्या का ब्योरा सामने आने के बाद शनिवार की सुबह उसे गिरफ्तार किया गया।


आफताब अमीन पूनावाला ने जांच के दौरान पुलिस को बताया कि शादी को लेकर हुए झगड़े के बाद उसने श्रद्धा वाकर की हत्या की और उसके शरीर को टुकड़ों में काटने का विचार उसे एक अमेरिकी टेलीविजन सीरीज ‘डेक्सटर’ से आया।


उन्होंने बताया कि आरोपी ने शव के कटे हुए हिस्सों को रखने के लिए 300 लीटर वाला एक फ्रिज खरीदा तथा शव से आने वाली बदबू को दबाने के लिए अगरबत्तियों एवं रूम फ्रेशनर का उपयोग किया।


पुलिस ने कहा कि आधी रात को पॉली बैग में शरीर के अंगों को पैक करके बाहर निकलने वाले आरोपी आफताब ने सावधानीपूर्वक इस आधार पर योजना बनाई कि शरीर का कौन सा हिस्सा जल्द से जल्द सड़ना शुरू हो जाता है और इसी के अनुरूप शरीर के हिस्सों को निपटाया।


पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, आरोपी ने जिन इलाकों में शव के टुकड़ों को फेंकने की जानकारी दी, वहां से 13 टुकड़े बरामद किये गए हैं, लेकिन फॉरेंसिक जांच के बाद ही पुष्टि हो सकेगी कि क्या ये पीड़िता से जुड़े हैं।


पुलिस को अभी तक हत्या में इस्तेमाल किया गया हथियार नहीं मिला है।


हत्या के बाद के अगले कुछ हफ्तों तक, आफताब ने कथित तौर पर महिला के दोस्तों के साथ उसके सोशल मीडिया अकाउंट का उपयोग करके बातचीत की ताकि कोई संदेह पैदा न हो। श्रद्धा वाकर अपने परिवार से बात नहीं कर रही थी, क्योंकि उन्होंने उनके रिश्ते पर आपत्ति जताई थी।


पीड़िता के पिता ने मुंबई में सितंबर में शिकायत दर्ज कराई जब उसके दोस्तों में से एक ने उन्हें बताया कि वाकर के फोन पर पिछले दो महीने से संपर्क नहीं हो पा रहा है और पूनावाला ने दावा किया वे कुछ समय पहले अलग हो गए थे।


एक अधिकारी ने बताया कि मुंबई में एक कॉल सेंटर में काम करने के दौरान पूनावाला और श्रद्धा वाकर को एक दूसरे से प्यार हुआ, लेकिन जब उनके परिवारों ने दोनों के अलग-अलग धर्म होने के कारण इस रिश्ते का विरोध किया तब यह युगल इस साल मई में दक्षिण दिल्ली के महरौली आ गया।


अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त-प्रथम (दक्षिण जिला) अंकित चौहान ने बताया, ‘‘ मध्य मई में शादी को लेकर दोनों के बीच कहासुनी हुई, जो बढ़ गयी तथा पूनावाला ने श्रद्धा की हत्या कर दी। ’’


उन्होंने कहा, ‘‘ फिर, आरोपी ने शव के 35 से अधिक टुकड़े किये। उसने शव के इन टुकड़ों को रखने के लिए फ्रिज खरीदा तथा ढेर सारी अगरबत्तियां एवं रूम फ्रेशनर खरीदा। वह कई दिनों तक शहर के अलग-अलग हिस्सों में इन टुकड़ों को फेंकता रहा। वह शव के इन टुकड़ों को फेंकने के लिए आधी रात को निकला करता था।’’


चौहान ने बताया कि पूनावाला के साथ अपने रिश्ते को लेकर मतभेद के चलते श्रद्धा की अपने परिवारवालों से ठीक से बातचीत भी नहीं होती थी।


मुंबई में श्रद्धा के पिता द्वारा दर्ज करायी गयी शिकायत में आरोप लगाया गया है कि पूनावाला श्रद्धा के साथ मारपीट करता था और उसने पहले यह बात अपने परिवार को बतायी थी।


चौहान ने कहा, ‘‘ महिला के पिता ने आरोपी को फोन किया तब उन्हें बताया गया कि दोनों कुछ समय पहले अलग हो गये। अपनी बेटी से संपर्क नहीं कर पाने पर उन्होंने गुमशुदगी की शिकायत दर्ज करायी।’’


पुलिस के अनुसार आरोपी को पांच दिनों के लिए हिरासत में लिया गया है और मामले की जांच की जा रही है।


शिकायत मिलने के बाद, मुंबई पुलिस ने दिल्ली में उसके अंतिम स्थान का पता लगाया और आफताब को भी बुलाया, जिनके विरोधाभासी बयानों ने संदेह पैदा किया, जिससे उन्हें दिल्ली पुलिस में शामिल होने के लिए प्रेरित किया गया।


मुंबई पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘‘मुंबई पुलिस ने आफताब और श्रद्धा का कॉल डिटेल रिकॉर्ड (सीडीआर) निकाला और पाया कि उसका मोबाइल मई से बंद था। फिर हमने आफताब को बुलाया और उससे पूछताछ की और उसका बयान भी दर्ज किया गया। ’’


अधिकारी ने कहा, ‘‘ उसने पहले कहा कि वे दिल्ली के छतरपुर इलाके में रहते थे, लेकिन मई में वह उनके बीच कुछ लड़ाई के बाद वहां से चली। जब मानिकपुर पुलिस को उसके बयान में कुछ विरोधाभास लगा, तो उसने दिल्ली पुलिस को सूचित किया और उसका सारा विवरण उन्हें हस्तांतरित कर दिया।’’


आठ नवंबर को मुंबई पुलिस ने महरौली थाने में श्रद्धा के लापता होने की सूचना दी थी। जांच के दौरान आफताब के आवास पर छापेमारी की गई और उसे हिरासत में ले लिया गया।


दिल्ली महिला आयोग की प्रमुख स्वाति मालीवाल ने आरोपी के लिए कठोरतम सजा की मांग की है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘ रूह कँपाने वाले एक मामले में दिल्ली में एक लड़की को उसके पुरुष मित्र ने जान से मार दिया और उसके शव के 35 टुकड़े कर फ्रिज में रखे। उसके शव के टुकड़ों को उसने शहर के अलग-अलग इलाक़ों में फेंका। समाज में कैसे कैसे दरिंदे पल रहे हैं। पुलिस ने आरोपी को गिरफ़्तार किया है। दरिंदे को कड़ी सजा होनी चाहिए।’’


दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) ने पुलिस को सोमवार को नोटिस जारी करते हुए यहां 29 वर्षीय महिला की कथित तौर पर उसके सहजीवन साथी (लिव-इन पार्टनर) द्वारा हत्या करने के मामले में 18 नवंबर तक उसे कार्रवाई रिपोर्ट सौंपने को कहा है।


डीसीडब्ल्यू ने दिल्ली पुलिस से मामले में प्राथमिकी की एक प्रति के साथ ही अन्य जानकारियां भी मांगी है।


आयोग ने पुलिस से कहा कि वह यह जानना चाहता है कि क्या वाकर ने अपने साथी के खिलाफ उत्पीड़न, घरेलू हिंसा या यौन उत्पीड़न की कोई शिकायत दर्ज करायी थी।


दिल्ली पुलिस को 18 नवंबर तक रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा गया है। वहीं, राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) ने भी सोमवार को दिल्ली पुलिस से राजधानी में एक महिला की उसके लिव-इन पार्टनर द्वारा हत्या की निष्पक्ष और समयबद्ध जांच करने को कहा है।


एनसीडब्ल्यू ने कहा, ‘‘ आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने इस मामले में निष्पक्ष और समयबद्ध जांच करने के लिए दिल्ली पुलिस आयुक्त को पत्र लिखा है। एनसीडब्ल्यू ने पुलिस से पीड़िता की कार्रवाई रिपोर्ट और मेडिकल रिपोर्ट भी मांगी है।’’


—भाषा



Related news