चंडीगढ़: केंद्र सरकार ने पंजाब में मूंग की फसल की खरीद के लिए मूल्य समर्थन योजना लागू करने पर सहमति जताई है। एक सरकारी प्रवक्ता ने कहा ‎कि भारत सरकार ने राज्य सरकार को एक पत्र के माध्यम से अवगत कराया है कि पंजाब में रबी सत्र 2021-22 के लिए पीएसएस दिशानिर्देशों, 2018 के अनुसार 4,585 टन ग्रीष्मकालीन 'मूंग' की खरीद के लिए मूल्य समर्थन योजना (पीएसएस) को लागू करने की मंजूरी दी गई है। मूंग खरीद की तारीख राज्य सरकार द्वारा तय की जाएगी और खरीद की अवधि उस तारीख से 90 दिन की रहेगी। प्रवक्ता ने कहा कि केंद्र की विज्ञप्ति से पता चला है कि केंद्रीय नोडल एजेंसी को खरीद शुरू होने से पहले पीएसएस दिशानिर्देशों के अनुसार वैज्ञानिक भंडारण स्थान की उपलब्धता की पुष्टि करनी चाहिए। पंजाब सरकार ने धान की खेती से पहले उगाए गए मूंग के लिए किसानों को एमएसपी प्रदान करने का फैसला किया है और इस सिलसिले में केंद्र से समर्थन मांगा है। ग्रीष्मकालीन मूंग 65 दिनों की फसल है जिसकी अनुमानित उपज लगभग पांच क्विंटल प्रति एकड़ होती है। बिना पॉलिश वाले मूंग का एमएसपी 7,275 रुपए प्रति क्विंटल है लेकिन आम तौर पर बाजार मूल्य इससे कहीं ज्यादा ही होता है। हालांकि, भारत घरेलू खपत के लिए हर साल पर्याप्त मात्रा में मूंग का आयात करता है। यदि राज्य के किसानों को इस तरह से प्रोत्साहित किया जाता है, तो पंजाब में 'मूंग' का उत्पादन कई गुना बढ़ाया जा सकता है। पंजाब सरकार ने पहले ही केंद्र से अनुरोध किया था कि वह उच्च प्रोटीन सामग्री वाली दालों के मामले में देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए 'मूंग' की पूरी फसल खरीद लें।



Related news