कोलकाता: कोलकाता में एक कारोबारी के घर से प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के अधिकारियों ने शनिवार को भारी मात्रा में जब्त नकदी गिनने के लिए 18 काउंटिंग मशीन लगाई गई और इस काम को करने में 16 घंटे का समय लगा। इस दौरान ईडी ने आमिर खान के गार्डन रीच आवास से 17 करोड़ रुपये से अधिक की राशि बरामद की। केंद्रीय जांच एजेंसी को मौके पर 10 ट्रंक भी मिले। हालांकि, कैश सिर्फ पांच ट्रंकों ही मिले। जांच एजेंसी ने शनिवार सुबह तलाशी शुरू की और नकदी की गिनती देर रात तक चलती रही। ईडी की तलाशी टीम के साथ बैंक अधिकारी और केंद्रीय बल भी थे। सूत्रों ने कहा कि 500 रुपये के नोट सबसे अधिक थे। छापे के दौरान 2,000 रुपये और 200 रुपये के नोट भी भी बरामद हुए। 

आपको बता दें कि छापेमारी प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) 2002 के प्रावधानों के तहत की गई थी। फेडरल बैंक के अधिकारियों द्वारा मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत में दायर एक शिकायत के आधार पर आमिर खान और अन्य के खिलाफ पिछले साल 15 फरवरी को कोलकाता के पार्क स्ट्रीट पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज किया गया था। 

ईडी ने कहा कि आमिर खान ने ई-नगेट्स नाम से एक मोबाइल गेमिंग एप्लिकेशन लॉन्च किया, जिसे जनता को धोखा देने के उद्देश्य से डिजाइन किया गया था। इस ऐप के जरिए पहले यूजर्स को कमीशन के साथ पुरस्कृत भी किया गया था। यूजर वॉलेट की राशि को आसानी से निकाल सकते थे। इससे ऐप की विश्वसनीयता बढ़ी। लोगों ने अधिक कमीशन की लालच में बड़ी मात्रा में निवेश करना शुरू कर दिया। 

जनता से अच्छी खासी रकम इकट्ठा करने के बाद अचानक ऐप से निकासी को रोक दिया गया। सिस्टम अपग्रेडेशन का बहाना दिया गया। बाद में प्रोफ़ाइल जानकारी सहित सभी डेटा को ऐप सर्वर से मिटा दिया गया। इसके बाद लोग खुद को ठगा महसूस करने लगे।







Related news