जोधपुर: ईद से पहले राजस्थान के जोधपुर में जालोरी गेट के पास सोमवार देर रात झंडे को लेकर दो समुदायों में झड़प हो गई। स्वतंत्रता सेनानी की मूर्ति पर झंडा फहराने के मुद्दे पर दो समूहों के बीच विवाद पैदा हो गया, जिसके बाद पथराव शुरू हो गया। जब उपद्रव काफी बढ़ गया तो पुलिस आई और उपद्रवियों को खदेड़ने के लिए लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले छोड़े। प्रशासन ने एहतियातन इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया है और संवेदनशील इलाकों में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है।

बताया जाता है कि इस घटना में कई लोग घायल हुए हैं। दरअसल जालोरी गेट चौराहा पर मौजूद स्वतंत्रता सेनानी बाल मुकुंद बिस्सा की मूर्ति पर झंडा लगाने और सर्किल पर ईद से जुड़े बैनर लगाने से विवाद शुरू हुआ। एक समुदाय ने नारेबाजी करते हुए झंडे बैनर हटा दिए। इसपर नाराज दूसरे पक्ष ने भी अपनी नाराजगी जाहिर की और फिर विवाद शुरू हो गया। चौराहे पर मौजूद कई गाड़ियों के शीशे तोड़ दिए गए। पथराव शुरू हुआ तो पुलिस को आंसू गैस को गोले छोड़ने पड़े।

उपद्रवियों पर काबू पाने के लिए पुलिस ने हल्का लाठीचार्ज किया। इसी दौरान ईद की नमाज को लेकर चौराहे तक लगे लाउडस्पीकर लोगो ने हटा दिए। प्रशासन ने दोनों समुदायों से सौहार्दपूर्ण तरीके से त्योहार मनाने और शांति बनाए रखने की अपील की है। एहतिहात के तौर पर जिले में इंटरनेट सेवा अस्थाई रूप से निलंबित कर दिया गया है। संभागीय आयुक्त हिमांशु गुप्ता ने अपने आदेश में कहा है कि कानून व्यवस्था को देखते हुए जिले में 3 मई को रात 1 बजे से इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं। बता दें कि कुछ दिन पहले करौली में पथराव और हिंसा की घटना हुई थी।



Related news