वाराणसी: ज्ञानवापी मस्जिद में सर्वे का वीडियो लीक होने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। इस मामले के पैरोकार विश्व वैदिक हिन्दू सनातन संघ ने इसे अशांति फैलाने की साजिश बताया है। इस केस की मुख्य वादी राखी सिंह के अधिवक्ता ने वीडियो लीक मामले में सीबीआई जांच की मांग की है। 

राखी सिंह के अधिवक्ता शिवम गौड़ ने कहा मुख्य वादी को छोड़कर अन्य सभी 4 वादियों ने कोर्ट से सबूत के रूप में वीडियो और फोटो लिया था, जबिक मुख्य वादी तथा उनकी मुवक्किल राखी सिंह ने वीडियो लेने से मना कर दिया था। 

उन्होंने बताया कि विश्व वैदिक हिंदू सनातन संघ ने पहले ही वीडियो लीक की आशंका जताई थी। शिवम गौड़ ने हिन्दू पक्ष के वादी और अधिवक्ताओं पर ज्ञानवापी मस्जिद हुए सर्वे का वीडियो लीक करने की आशंका जताई है और जिला प्रशासन से इस मामले में कठोर कार्रवाई किए जाने की मांग की। वहीं ज्ञानवापी केस के पक्षकार और विश्व वैदिक हिन्दू सनातन संघ के प्रमुख जितेंद्र सिंह बिसेन कहते हैं आशंका जताए जाने के बाद भी वीडियो वायरल होना दुर्भाग्यपूर्ण है। 

वीडियो लीक के मामले में उच्चस्तरीय जांच हो और दोषी व्यक्ति को कड़ी से कड़ी सजा मिले। जितेंद्र सिंह बिसेन कहते हैं देश की शांति व्यवस्था को भंग करने का षड्यंत्र किया जा रहा है। माहौल खराब होने पर वीडियो वायरल करने वाले लोग जिम्मेदार होंगे क्योंकि इस वीडियो को देखकर लोगो में आक्रोश बढ़ सकता है। 



Related news