नई दिल्ली: चंद्रमा और मंगल पर मिशन भेजने के बाद इसरो शुक्र की कक्षा में भेजने के लिए अंतरिक्षयान तैयार कर रहा है, ताकि यह अध्ययन किया जा सके कि सौर मंडल के सबसे गर्म ग्रह की सतह के नीचे क्या है, और इस घेरे सल्फ्यूरिक एसिड के बादलों के नीचे का रहस्य क्या है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष एस सोमनाथ ने कहा कि शुक्र मिशन की परिकल्पना की गई है और परियोजना रिपोर्ट तैयार हुई है। उन्होंने वैज्ञानिकों से उच्च प्रभाव वाले परिणामों पर ध्यान केंद्रित करने को कहा। सोमनाथ ने कहा, ‘‘भारत के लिए शुक्र की कक्षा में मिशन भेजना बहुत कम समय में संभव है क्योंकि भारत के पास आज यह क्षमता है।’’ इसरो मिशन को भेजने के लिए दिसंबर 2024 का लक्ष्य लेकर चल रहा है। 




Related news