हरिद्वार (दैनिक हाक): सोमवती अमावस्या स्नान पर्व को सकुशल सम्पन्न कराने के लिए जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ योगेन्द्र सिंह रावत ने ऋषिकुल आयुर्वेदिक कॉलेज सभागार में संयुक्त रूप से मेले में तैनात पुलिस बल को ब्रीफ किया। डीएम व एसएसपी ने सयुंक्त रूप से कहा कि सोमवती अमावस्या स्नान पर्व 30 मई 2022 को देश के विभिन्न प्रान्तो से लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं को आगमन रहेगा। सोमवाती अमावस्या स्नान पर्व का प्रभारी अधिकारी पुलिस अधीक्षक नगर स्वतंत्र कुमार को बनाया गया है। पूर्व में देश के विभिन्न स्थानों पर घटित आतंकवादी घटनाओं पर्वो के अवसर पर भगदड़ आदि घटनाओं के दृष्टिगत पर्व के अवसर पर भारी संख्या में श्रद्धालुओं के आगमन को ध्यान में रखते हुए विशेष सतर्कता बरतने एवं सुरक्षा, शान्ति एवं कानून व्यवस्था तथा यातायात व्यवस्था को सुदृढ़ रखने के लिए पुलिस प्रबन्ध किये जाने नितान्त जरूरी बताया। स्नान पर्व के मद्देनजर सम्पूर्ण मेला क्षेत्र का पुलिस अधीक्षक नगर, क्षेत्रधिकारी नगर, प्रभारी निरीक्षक कोतवाली नगर, प्रभारी चैकी हरकी पैड़ी के साथ भ्रमण करके स्थलीय निरीक्षण किये जाने के निर्देश दिये। सोमवती स्नान पर्व को सकुशल सम्पन्न कराने के लिए मेला क्षेत्र को 05 सुपर जोन, 16 जोन एवं 39 सैक्टर में विभाजित किया गया है। उन्होंने कहा कि विगत में आतंकवादी तत्वों द्वारा जनपद में रेलवे स्टेशन, हरकी पैड़ी आदि स्थलों को निशाना बनाये जाने की धमकी दिये जाने व पूर्व में गिरफ्रतार आंतकवादी तत्वों द्वारा हरिद्वार में स्नान पर्व के दौरान गड़बड़ी फैलाने की योजना को ध्यान में रखते हुए सोमवती अमावस्या की अवधि में विशेष सतर्कता एवं सजगता अपेक्षित है। मेले के दौरान इस प्रकार की घटनाओं की रोकथाम हेतु जनपद में प्रवेश करने वाले तथा जनपद से प्रस्थान करने वाले सभी वाहनों की चैंकिंग सुनिश्चित की जाये और यह देखा जाये कि कहीं पर कोई संदिग्ध वस्तु तो छुपाकर नहीं रखी गई है। सभी भीड़ वाले स्थानों विशेषतः हर की पैड़ी, मंशा देवी मन्दिर, चण्डी देवी मंदिर एवं अन्य धार्मिक स्थलों पर विशेष सतर्कता बरतने एवं सुदृढ पुलिस प्रबन्ध करते हुए लगातार एण्टीसेबोटाज एवं फिस्किंग की कार्यवाही की जाये। उन्होंने मेले में तैनात अधिकारियों व कर्मचारियों कहा कि डयूूटी पर नियुक्त प्रत्येक पुलिस अधिकारी एवं कर्मचारी को यह मालूम होना चाहिये कि उसकी डयूटी क्या है, उसे क्या करना है और क्या नहीं करना है,उसके निकटवर्ती पुलिस कर्मी एवं महत्वपूर्ण नम्बर उसके पास अवश्य हों। साथ ही कोई अधिकारी व कर्मचारी डयूटी के दौरान अनावश्यक मोबाईल का प्रयोग नही करेगा। पूर्व में जारी ट्रैफिक प्लान सभी को स्पष्ट रूप से मालूम होना चाहिये। जिससे कि वाहनो को सही मार्ग पर रवाना भीड़ को नियन्त्रित किया जा सके। मेले के दौरान किसी भी तरह की अफवाहों को न फैलने दें चेतक व मोबाईल वाहन निरन्तर अपने-अपने क्षेत्र मे भ्रमण पर रहेंगे। गड़बड़ी फैलाने वाले तत्वों पर सतर्कतापूर्वक नजर रखते हुये उच्चाधिकारियों को सूचित करें। समस्त जोनल प्रभारी व सैक्टर प्रभारी डयूटी स्थल पर कर्मचारियों को उसकी डयूटी के विषय में भंली भांति ब्रीफ कर लें, समस्त कर्मचारीगण डयूटी स्थल पर पहुंचकर यह जान लें कि उसे क्या करना है एवं कैसे करना है। यदि कर्मचारी को अपनी डयूटी समझ में नहीं आ रही है, तो अपने उच्चाधिकारी से अवश्य पूछें। प्रत्येक पुलिसकर्मी का व्यवहार शालीन एवं दृढ़ हो, यह सुनिश्चित कर लिया जाय। पुलिसकर्मी से आमजन को बहुत अपेक्षायें होती हैं, इसलिए ऐसा कोई भी कार्य न करें या ऐसा कोई भी व्यवहार न करें, जिससे आप स्वयं ही समस्या बन जायें एवं कानून व्यवस्था को प्रभावित करने के लिए मुद्दा बन जायें। निरीक्षक अभिसूचना को निर्देशित किया कि वह संवेदनशील स्थानो पर अभिसूचना कर्मियो को नियुक्त कर लाभप्रद सूचना से अवगत कराना सुनिश्चित करेंगे। 

स्नान पर्व पर किया पुलिस बल तैनात- सोमवती अमावस्या स्नान पर्व को सकुशलता के लिए 05 अपर पुलिस अधीक्ष, 15 पुलिस उपाधीक्षक, 42 निरीक्षकव थानाध्यक्ष, 97 उपनिरीक्षक, 24 महिला उपनिरीक्षक, 123 हेण्ड कांस्टेबल, 451 कांस्टेबल, 140 महिला कांस्टेबल, 03 टीआई यातायात पुलिस, 03 उपनिरीक्षक, 13 हेण्ड कांस्टेबल, 67 कांस्टेबल, 05 कम्पनी सीआईआरबी, 01-प्लाटून फ्रलड़ दल, 01 टीम (हरिद्वार) ड़ीएसमय ड़ॉग स्कवाड़, 03 टीम जल पुलिस, 02 टीम घुड़सवार पुलिस, 27 कर्मचारीगण अभिसूचना ईकाई, 03 फॉयर टेंकर, 01 बैकपैक सेट तैनात किया गया है।  

 



Related news