नई दिल्ली: एनसीबी ने अमेरिका और कुछ अन्य देशों में मादक पदार्थ भेजने वाली एक अवैध इंटरनेट दवा कंपनी का भंडाफोड़ किया है। यह कंपनी ग्राहकों से बैंक खाते में पैसे भेजने, क्रेडिट कार्ड, पेपाल, बिटकॉइन आदि भुगतान माध्यमों से पैसे देने को कहती थी। एनसीबी ने रविवार को कहा कि उसने इस मामले में हैदराबाद के एक व्यक्ति को गिरफ्तार भी किया है तथा इसके साथ ही 3.71 करोड़ रुपये की नकदी बरामद की है।

 मादक पदार्थ रोधी संघीय एजेंसी के अनुसार जेआर इन्फिनिटी प्राइवेट लिमिटेड नाम की यह दवा कंपनी तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद के दोमलगुदा में स्थित है। स्वापक नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) के हैदराबाद उपमंडल के अधिकारियों ने कुछ दिन पहले इस स्थान पर छापा मारा और अज्ञात ‘‘सरगना’’ को गिरफ्तार किया जो यह अवैध दवा कंपनी कथित तौर पर चला रहा था। एनसीबी ने कहा कि उसने मादक पदार्थ की तस्करी से मिले 3.71 करोड़ रुपये नकद, कई लैपटॉप, मोबाइल फोन और अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण बरामद किए हैं, जिनका इस्तेमाल ‘‘अवैध इंटरनेट दवा कंपनी’’ चलाने में किया गया। एजेंसी के उपमहानिदेशक (अभियान) संजय कुमार सिंह ने एक बयान में कहा, ‘‘जेआर इन्फिनिटी के कर्मचारी ईमेल तथा वीओआईपी (वॉयस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल) पर अमेरिका तथा अन्य देशों में ग्राहकों से संपर्क करते थे और एनडीपीएस कानून के तहत आने वाले मादक पदार्थ समेत विभिन्न दवाइयां बेचते थे।’’ बयान में कहा गया, ‘‘एक बार जब ग्राहक उत्पाद और उसके दाम को लेकर राजी हो जाता था तो कर्मचारी ग्राहकों की जानकारियों जैसे कि उनका नाम, पता, ईमेल आईडी आदि एकत्रित करते थे तथा उन्हें भुगतान के लिए लिंक भेजते थे।’’ अधिकारी ने बताया कि भुगतान होने पर जेआर इन्फिनिटी अमेरिका तथा अन्य देशों में ग्राहकों को अवैध दवा भेजती थी।




Related news