नई दिल्ली: रूस और यूक्रेन के बीच पिछले 8 माह से ज्यादा समय से युद्ध जारी है। इस बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु से टेलीफोन पर बातचीत की। इस दौरान सिंह ने द्विपक्षीय रक्षा सहयोग के साथ-साथ यूक्रेन में बिगड़ती स्थिति पर चर्चा की। शोइगु ने रक्षा मंत्री सिंह को यूक्रेन में पैदा हो रहे हालात के बारे में भी जानकारी दी। इस दौरान यूक्रेन द्वारा ‘डर्टी बम’ के संभावित उपयोग को लेकर रूस की चिंताओं पर चर्चा की है। रूसी दूतावास ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। 

सिंह ने रूसी समकक्ष से कहा कि यूक्रेन विवाद को बातचीत और कूटनीति से सुलझाया जाना चाहिए। साथ ही किसी भी पक्ष को परमाणु हमले के विकल्प का सहारा नहीं लेना चाहिए, क्योंकि परमाणु या रेडियोलॉजिकल हथियारों का इस्तेमाल मानवता के मूल सिद्धांतों के खिलाफ है। इससे पहले रूसी रक्षा मंत्री शोइगु ने अपने ब्रितानी, फ्रांसीसी, तुर्की और अमेरिकी समकक्षों को फोन पर बात कर यह दावा किया था कि यूक्रेन डर्टी बम से हमला करने की तैयारी कर रूस को उकसा रहा है।

रूस ने हाल में आरोप लगाया है कि उसके खिलाफ प्रोपेगेंडा फैलाने के लिए यूक्रेन डर्टी बम का इस्तेमाल कर सकता है। रूस का दावा है कि यूक्रेन रेडियोधर्मी उपकरण-तथाकथित 'डर्टी बम' के जरिए उस उकसाने की कोशिश कर रहा है। हालांकि यूक्रेन की परमाणु ऊर्जा एजेंसी ने रूस के दावे को खारिज कर चुकी है। यूक्रेन का कहना है कि रूसी सेना अपने कब्जे वाले यूरोप के सबसे बड़े परमाणु ऊर्जा संयंत्र में गुप्त रूप से निर्माण कार्य कर रही है। रूसी सेना अपनी उन गतिविधियों से ध्यान हटाने के लिए यूक्रेन पर आरोप लगा रही है। 


 



Related news