ऋषिकेश (दैनिक हाक): आज दिनांक 6 जून, 2002 को होली विवाशा होटल ऋषिकेश में चार धाम यात्रा से संबधित ‘तेल ऊर्जा चक्रम’ के दूसरे फ़ेज़ (6 मई हरिद्वार कार्यक्रम के बाद) का शुभारंभ किया गया। यह कार्यक्रम एसडीसी फाउंडेशन, एफडीए उत्तराखंड और सीएसआईआर-आईआईपी के सहयोग से आयोजित हुआ । सर्वप्रथम कार्यक्रम में उपस्थित मुख्य अतिथि, विशिष्ट अतिथि एवं अन्य गणमान्य अतिथियों का स्वागत किया गया। इसके उपरांत डॉ अंजन रे (निदेशक, आईआईपी ) ने अपने स्वागत भाषण में रुको- एक पहल एवं चार धाम यात्रा के दौरान अपशिष्ट तेल से आईआईपी द्वारा बनाये जाने वाले बायोडीजल के बारे में जानकारी दी । श्री गणेश कंडवाल (डिप्टी कमिश्नर,एफडीए) द्वारा अपशिष्ट तेल के स्वास्थ्य पर कुप्रभाव एवं खाद्य श्रृंखला में इसके पुनः उपयोग को रोकने के बारे में एफडीए के प्रयासो को सांझा किया। श्री सौरभ कुशवाहा (वरिष्ठ निजी अधिकारी, टीएचडीसी) ने सी एस आर द्वारा किये जा रहे प्रयासों के बारे मे जानकारी दी। विशिष्ट अतिथि श्री शैलेन्द्र नेगी (एसडीएम, ऋषिकेश) द्वारा रुको मिशन में नगर निगम एवं प्रशासनिक सहयोग की आवश्यकता पर बल दिया। मुख्य अतिथि डॉ. दुर्गेश पंत (तकनीकी सलाहकार ) ने इस कार्यक्रम

को पूरे उत्तराखंड के लिए अत्यंत आवश्यक बताया एवं इसके प्रचार प्रसार के लिए उत्तराखंड सरकार द्वारा पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया । डॉ. नीरज आत्रेय (वरिष्ठ प्रधान वैज्ञानिक, आईआईपी )द्वारा सामान्य तापमान पर बायोडीजल के प्रक्रम के बारे में जानकारी दी गई एवं डॉ. जयति त्रिवेदी (वरिष्ठ वैज्ञानिक,आईआईपी) द्वारा इसका डेमो भी दिखाया गया । श्री अनूप नौटियाल जी द्वारा अपशिष्ट तेल की सप्लाई चेन और उनके प्रबंधन के बारे में बताया गया तथा सभी अतिथियों एवं होटल संचालकों को धन्यवाद दिया गया । इस अवसर पर ऋषिकेश के 50 से अधिक होटल संचालकों को अतिथियों द्वारा रुको मिशन के अंतर्गत प्रमाण पत्र वितरित किए गये । कार्यक्रम का संचालन डॉ. जयति त्रिवेदी (वरिष्ठ वैज्ञानिक,आईआईपी) द्वारा किया गया । विपिन थपलियाल (डीजीएमटीएचडीसी), एम एन जोशी एंव पी सी जोशी (डिस्ट्रिक्ट एफएसओ),हिमांशु अरोरा (प्रेसिडेंट लायंस क्लब ऋषिकेश रॉयल),अतुल जैन तथा आईआईपी टीम के सदस्य डॉ. राजकुमार सिंह, सुंदराम, अमन, नेहा, तुषार और राहुल उपरोक्त कार्यक्रम में उपस्थित थे ।



Related news