लंदन: ब्रिटेन में एक शोध के अनुसार पता चला है कि मानव गतिविधियों के कारण जलवायु परिवर्तन हो रहा है। शोधकर्ताओं ने बताया इस जल परिवर्तन से हीटवेव की संभावना 10 गुना बढ़ गई है। ब्रिटेन में इस महीने की रिकॉर्ड-टूटने वाली हीटवेव को कम से कम 10 गुना अधिक होने की संभावना है। पूर्वी इंग्लैंड में 40.3 डिग्री सेल्सियस (104.5 डिग्री फ़ॉरेनहाइट) अब तक का उच्च तापमान दर्ज किया गया और भीषण आग ने लंदन में दर्जनों घरों को नष्ट कर दिया है। 20 जुलाई को ब्रिटेन में कम से कम 34 स्थानों ने उच्च तापमान का रिकॉर्ड दर्ज किया है। शोधकर्ताओं ने बताया की ब्रिटेन में सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्र मध्य इंग्लैंड और पूर्वी वेल्स में अधिकतम तापमान पर उनका ध्यान केंद्रित है। उन्होंने बताया कि मानव-जनित ग्रीनहाउस गैसों के कारण रिकॉर्ड-तोड़ गर्मी की संभावना कम से कम 10 गुना अधिक थी जो ग्लोबल वार्मिंग का कारण बनती है।

अध्ययन में पाया गया कि पूरे यूरोप में अत्यधिक गर्मी की घटनाएं जलवायु मॉडल के अनुमान से कहीं अधिक बढ़ गई थी। 2020 में ब्रिटेन के मौसम कार्यालय के वैज्ञानिकों ने गणना की कि प्राकृतिक जलवायु में तापमान 40 ‎डिग्री से ऊपर होने की संभावना है। कंप्यूटर जनित मॉडलों ने अनुमान लगाया कि ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन ने जुलाई की गर्मी के तापमान में 2‎डिग्री की वृद्धि हुई। इंपीरियल कॉलेज लंदन के ग्रांथम इंस्टीट्यूट में जलवायु विज्ञान के ऐ वरिष्ठ व्याख्याता ने बताया ‎कि यूरोप और दुनिया के अन्य हिस्सों में हम अधिक से अधिक रिकॉर्ड तोड़ने वाली हीटवेव देख रहे हैं। यह एक चिंताजनक खोज है जो बताती है, यदि कार्बन उत्सर्जन में तेजी से कटौती नहीं हुई तो यूरोप के लोगों को ऐसे ही अत्यधिक गर्मी से परेशान रहना पड़ सकता है।



Related news