मोरबी: मोरबी की मच्छू नदी पर बने केबल ब्रिज दुर्घटना के बाद पुलिस हरकत में आ गई है और 9 लोगों को हिरासत में ले लिया है| जिसमें मैनेजमेंट और मेन्टेनेंस करने वाले लोग शामिल हैं| पुलिस ने इन लोगों के खिलाफ धारा 304, 308 और 114 के तहत केस दर्ज किया है| जानकारी के मुताबिक यह ब्रिज 15 साल की लीज पर ओरेवा ग्रुप को दिया गया था| परंतु एफआईआर में ओरेवा कंपनी या उसके मालिक जयसुख पटेल के नाम का उल्लेख नहीं किया गया| जानकारी के मुताबिक नवीनीकरण के बाद ओरेवा ग्रुप के मालिक जयसुख पटेल अपने परिवार के साथ इसका उदघाटन करने गए थे| मोरबी नगर पालिका को कोई जानकारी देने और उससे एनओसी लिए बगैर केबल ब्रिज को लोगों के लिए खोल दिया था| मोरबी नगर पालिका के मुख्य अधिकारी संदीपसिंह झाला के मुताबिक ब्रिज काफी जर्जरित होने के कारण करीब 6 महीने पहले उसे लोगों के लिए बंद कर दिया गया था| ओरेवा ग्रुप ने इस ब्रिज पुन: स्थापित करने के लिए गत 7 मार्च को 15 साल के लिए रखरखाव के लिए लिया था| लेकिन प्रबंधन या रखरखाव के अभाव में रविवार की शाम करीब 6.30 के दौरान ब्रिज टूट गया| इस घटना में अब तक 140 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और 150 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं| पुलिस ने इस मामले में अब तक 9 लोगों के खिलाफ 304, 308 और 114 के तहत केस दर्ज कर उन्हें हिरासत में ले लिया है| चौंकाने वाली बात यह है कि ओरेवा कंपनी के मालिक जयसुख ओधवजी पटेल के नाम का एफआईआर में उल्लेख नहीं है|




Related news