हरिद्वार (दैनिक हाक): भारत विकास परिषद की देवभूमि हरिद्वार शाखा द्वारा हरियाली तीज महोत्सव हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। कनखल स्थित संस्कार सेवा समिति सभागार में आयोजित कार्यक्रम का शुभारंभ शाखा अध्यक्ष रत्नेश गौतम एवं अतिथितियों द्वारा दीप प्रज्जवलित कर एवं वंदेमातरम गीत गाकर किया गया। कार्यक्रम में तीज रानी, उत्तम परिधान, मेहंदी, लोकगीत और लोकनृत्य, प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता के अलावा रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गए, जिसमें महिलाओं ने बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया। तीज रानी का खिताब डा. शेफाली जोशी के सिर सजा। जबकि स्तुति अग्रवाल ने द्वितीय पुरूस्कार जीता। उत्तम परिधान का खिताब नेहा चावला ने जीता। कृष्णा शर्मा, खुशबु, श्रुति, शालिनी, नेहा, रूपल, शीतल एवं शेफाली ने सुंदर लोक नृत्य की प्रस्तुति देकर सभी का मन मोह लिया। राधिका नागरथ, रश्मि चौहान, प्रीत शिखा, मीनाक्षी अग्रवाल एवं नितिन मिश्रा ने सभी प्रतिभागियों को पुरस्कार प्रदान किए। कार्यक्रम में सावन के गीतों पर महिलाओं ने झूले का आनंद भी लिया। मधु उपाध्याय एवं किरन अग्रवाल ने सभी महिलाओं को सुहाग पिटारी प्रदान की। 

प्रतियोगिताओं में जज की भूमिका राजकीय नर्सिंग कालेज की प्राचार्य सुमन लता पाठक, डा.कुसुम उपाध्याय एवं भावना गुप्ता ने निभाई। संरक्षिका कमला जोशी ने हरियाली तीज के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि इस दिन कठोर तप करने के पश्चात् माता पार्वती की कामना पूर्ण हुई थी और उन्हें पति के रूप में शिव प्राप्त हुए थे। इस दिन सुहागिन महिलाएं सोलह श्रृंगार करके अपने पति की दीर्घायु के लिए भगवान शिव और देवी पार्वती की पूजा करतीं हैं। कार्यक्रम संयोजक किरण अग्रवाल ने बताया की कि ऐसे समय में जब हमारी नई पीढ़ी पाश्चात्य संस्कृति की ओर आकर्षित हो रही है तो हमारा कर्तव्य बनता है कि हम अपने तीज त्योहारों को संजोकर आगे आने वाली पीढ़ी को सौंपे। ममता कंसल ने तीज त्योहार कैसे मनाए जाते हैं, के संबंध में जानकारी दी। शाखा अध्यक्ष रतनेश गौतम द्वारा अतिथियों का स्वागत किया गया। शाखा सचिव सुधा तिवारी ने भारत विकास परिषद एवं उसके कार्यों के विषय में जानकारी दी। मंच संचालन कोषाध्यक्ष शिवानी विनायक ने किया। कार्यक्रम में पूनम चौहान, प्रेम चावला, वंदना गुप्ता, सरोज, सुनीता धीमान, खुशबू, आशा, अनिता शर्मा, गीता, कुलवंत कौर, शीतल, रेखा, भावना, पूनम अग्निहोत्री, सरोज त्रिपाठी, रूपल अग्रवाल, निर्मल गुगलानी, मालती, गीता खुराना, उमा धींगरा, श्रुति, शालिनी आदि महिलाएं शामिल रही। 



Related news