नई दिल्ली: नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा राज्यमंत्री श्री भगवंत खुबा जर्मनी के म्यूनिख में आयोजित इंटरसोलर यूरोप 2022 में सम्मिलित हुये। उन्होंने “इंडियाज़ सोलर एनर्जी मार्केट” (भारत का सौर ऊर्जा बाजार) विषय पर होने वाले निवेश प्रोत्साहन कार्यक्रम में प्रमुख वक्तव्य दिया। अपने मुख्य वक्तव्य में भगवंत खुबा ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की महत्‍वाकांक्षी पंचामृत का लक्ष्य कॉप-26 इंडिया के दौरान तय किया था, जिसके तहत भारत 2070 तक नेट-ज़ीरो का लक्ष्य प्राप्त करेगा तथा 2030 तक गैर-जीवाश्म 500 गेगावॉट ऊर्जा की क्षमता स्थापित करेगा।’ श्री खुबा ने कहा कि भारत में नवीकरणीय ऊर्जा संसाधान की अपार क्षमता है तथा इन लक्ष्यों को हासिल करने के लिये मजबूत बुनियाद को मजबूत नीति का समर्थन प्राप्त है। उन्होंने कहा कि भारत में पिछले सात वर्षों में नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता में असाधारण वृद्धि हुई है तथा भारत ने 2021 में गैर-जीवाश्म ईंधन की समग्र ऊर्जा क्षमता का 40 प्रतिशत लक्ष्य पूरा कर लिया है। इस तरह भारत 2030 तक निर्धारित अवधि से पूरे नौ वर्ष आगे है। श्री खुबा ने कहा कि भारत सरकार महत्‍वाकांक्षी लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिये सौर पीवी सेक्टर में स्वदेशी निर्माण को प्रोत्साहन देने के लिये प्रतिबद्ध है। स्वदेशी पीवी निर्माण सेक्टर को समर्थन देने के लिये कई नीतिगत उपाय किये हैं।



Related news