नई दिल्ली: उत्तर भारत में अपना परचम लहराने के बाद भाजपा दक्षिण भारत के राज्यों में संगठन को मजबूत करने की कवायद में जुटी है। जनता का विश्वास हासिल करने की मुहिम में लगी भाजपा, केरल पर विशेष ध्यान दे रही है। केरल में वर्तमान में वाम दलों की सरकार है और इसी राज्य की वायनाड लोक सभा सीट से वर्तमान में राहुल गांधी लोक सभा के सांसद हैं। भाजपा केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन की सरकार को राज्य में जारी राजनीतिक हत्याओं, हिंसा, संगठित अपराध, जिहाद, धार्मिक आधार पर भेदभाव और इस्लामिक आतंकवाद के मुद्दों के आधार पर घेरने की कोशिश कर रही है।

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने केरल में जाकर राज्य की एलडीएफ सरकार पर इस्लामिक आतंकवाद को लेकर बड़ा आरोप लगाते हुए राज्य की जनता को एक संदेश देने की भी कोशिश की। शुक्रवार को केरल के कोझीकोड में एक रैली को संबोधित करते हुए नड्डा ने सीधा हमला बोलते हुए कहा, "एलडीएफ सरकार तटस्थ होने का दिखावा करती है लेकिन इस झूठ और इन फर्जी दावों से सच्चाई को छिपाया नहीं जा सकता। एलडीएफ की इस विजयन सरकार में केरल इस्लामिक आतंकवाद का उत्पादन केंद्र बन गया है।"

नड्डा ने अपना हमला जारी रखते हुए कहा कि इस्लामिक आतंकवाद को राज्य की लेफ्ट फ्रंट सरकार का समर्थन मिल रहा है। नड्डा ने माकपा के नेतृत्व वाली लेफ्ट सरकार पर एक खास समुदाय को खास तवज्जों देने का आरोप लगाते हुए राज्य में तेजी से हो रहे जनसांख्यिकीय परिवर्तन के मुद्दे को भी उठाया। उन्होंने कहा कि राज्य में तेजी से हो रहे जनसंख्या परिवर्तन से केरल के लोग परेशान हैं। राज्य के धार्मिक नेता, खासतौर से ईसाई समुदाय के लोग बार-बार इस मुद्दे को उठा रहे हैं। उन्होंने कहा कि ईसाई समुदाय लगातार जनसंख्या परिवर्तन और जिहाद का मुद्दा उठा रहा है और उनकी चिंताओं को समझने की जरूरत है। राज्य सरकार पर हिंसा और हत्याओं को प्रायोजित करने का आरोप लगाते हुए भी नड्डा ने कहा कि लेफ्ट फ्रंट की सरकार के तहत यह राज्य अराजकता और भ्रष्टाचार में लिप्त है।

आपको याद दिला दें कि, इससे पहले इसी महीने 3 मई को केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने भी राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र वायनाड का दौरा कर केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही जन कल्याणकारी योजनाओं की प्रगति की समीक्षा के लिए स्थानीय अधिकारियों के साथ जिला आकांक्षी समीक्षा बैठक की थी। इसके साथ ही स्मृति ईरानी ने कई आंगनवाड़ी केंद्रों और आदिवासियों के इलाकों में जाकर महिलाओं, बच्चों और आदिवासियों से बात भी की थी। 



Related news