अलीपुरद्वार: भारतीय जनता पार्टी के कुछ नेताओं द्वारा पश्चिम बंगाल से अलग राज्य बनाने की मांग पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि राज्य को विभाजित करने की कोशिशों को विफल करने के वास्ते जरूरत पड़ने पर वह अपना खून तक बहाने के लिए भी तैयार हैं। बनर्जी ने भाजपा पर 2024 के आम चुनाव से पहले राज्य में ‘अलगाववाद’ को बढ़ावा देने की कोशिश करने का आरोप लगाकर कहा कि उत्तर बंगाल में सभी समुदाय के लोग दशकों से एक-दूसरे के साथ मिलकर रह रहे हैं, लेकिन भाजपा लोगों को बांटने की कोशिश कर रही है। 

तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता ने पार्टी की बैठक को संबोधित कर कहा, ‘लोकसभा चुनाव करीब आने के साथ ही भाजपा अलग राज्य की मांग कर रही है। भाजपा कभी गोरखालैंड की मांग कर रही है, तब कभी अलग उत्तर बंगाल की मांग कर रही है। मैं जरूरत पड़ने पर अपना खून तक बहाने के लिए तैयार हूं, लेकिन राज्य को कभी विभाजित नहीं होने दूंगी। कामतापुर लिबरेशन ऑर्गनाइजेशन के नेता जीवन सिंघा के कथित वीडियो के संदर्भ में, जिसमें कामतापुर की मांग नहीं मानने पर मुख्यमंत्री को ‘रक्तपात’ की धमकी दी गई है, बनर्जी ने कहा कि वह इस तरह की धमकियों से नहीं डरती हैं। 

उन्होंने कहा, कुछ लोग मुझे धमकी दे रहे हैं, मुझे इसकी परवाह नहीं है। मैं इस तरह की धमकियों से नहीं डरती। उन्‍होंने कहा कि भाजपा के लोग पहाड़ी और मैदान के बीच दरारें पैदा करना चाहते हैं। ये बंटवारे की बात कर रहे हैं, लेकिन हम ऐसा बंटवारा नहीं चाहते। पहाड़ों और मैदानों के लोग हमारे हैं। 



Related news