नई दिल्ली (दैनिक हाक): कृषि और किसान कल्याण विभाग ने माईगॉव प्लेटफॉर्म पर अंतर्राष्ट्रीय बाजरा वर्ष 2023 की समयावधि तक पूर्व में शुरू किए गए कार्यक्रमों और पहलों की एक श्रृंखला का आयोजन किया है। इस आयोजन के अंतर्गत प्राचीन और पौष्टिक अनाज को फिर से खाने की थाली में लाने पर जागरूकता फैलाने की पहल की गई है।

विभिन्न संगठनों द्वारा कई प्रतियोगिताओं के माध्यम से जागरूकता बढ़ाने के लिए माईगॉव प्लेटफॉर्म एक बहुत ही महत्वपूर्ण और सफल माध्यम बन गया है। माईगॉव पर जुड़ाव इसे जन आंदोलन बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। कुछ प्रतियोगिताओं का शुभारंभ किया जा चुका है, कुछ वर्तमान में जारी हैं और कई अन्य का देश के परिकल्पनात्मक और रचनात्मक दृष्टिकोण को साकार रूप देने के लिए माईगॉव प्लेटफॉर्म पर शुभारंभ किया जाएगा। प्रतियोगिताओं का विवरण माईगॉव वेबसाइट https://www.mygov.in पर उपलब्ध हैं।

 

5 सितंबर 2022 को 'इंडियाज वेल्थ, मिलेट्स फॉर हेल्थ' विषय के साथ चित्रकथा डिजाइन करने के लिए एक प्रतियोगिता शुरू की गई है और इसका उद्देश्य जनता के बीच जागरूकता बढ़ाने के लिए बाजरा के स्वास्थ्य लाभों को प्रदर्शित करना है। प्रतियोगिता 5 नवंबर 2022 को समाप्त होगी और इसे अब तक काफी उत्साहजनक प्रतिक्रिया मिली है।

 

बाजरा स्टार्टअप इनोवेशन चैलेंज 10 सितंबर 2022 को शुरू किया गया है। यह पहल युवा सोच को बाजरा इको-सिस्टम में मौजूदा समस्याओं के लिए तकनीकी/व्यावसायिक समाधान प्रदान करने के लिए प्रोत्साहित करती है। यह इनोवेशन चैलेंज 31 जनवरी 2023 तक खुला रहेगा।

द माइटी मिलेट्स क्विज को हाल ही में शुरू किया गया था, जिसमें पूछे गए सवाल बाजरा और इसके लाभों पर आधारित थे और इसे भी जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली। यह प्रतियोगिता 20 अक्टूबर 2022 को समाप्त होगी।  इसे 20 से 30 अगस्त, 2022 के बीच 57,779 पेज व्यू और 10,824 प्रविष्टियां प्राप्त हुई हैं।

बाजरा के महत्व पर एक ऑडियो गीत और वृत्तचित्र फिल्म के लिए भी एक प्रतियोगिता जल्द ही शुरू की जाएगी।

अंतर्राष्ट्रीय बाजरा वर्ष 2023 के लिए लोगो और स्लोगन प्रतियोगिता पहले ही आयोजित की जा चुकी है और विजेताओं की घोषणा शीघ्र ही की जाएगी। भारत सरकार जल्द ही अंतर्राष्ट्रीय बाजरा वर्ष 2023 के महत्वपूर्ण अवसर को चिह्नित करने के लिए लोगो और स्लोगन जारी करेगी।

 पृष्ठभूमि

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने वर्ष 2023 को अंतर्राष्ट्रीय बाजरा वर्ष के रूप में घोषित किया है। इसे संयुक्त राष्ट्र एक प्रस्ताव द्वारा अपनाया गया था जिसका नेतृत्व भारत ने किया और 70 से अधिक देशों ने इसका समर्थन किया। यह दुनिया भर में बाजरा के महत्व, दीर्घकालीन कृषि में इसकी भूमिका और एक उत्तम और शानदार खाद्य के रूप में इसके लाभों के बारे में जागरूकता फैलाने में मदद करेगा। भारत 170 लाख टन से अधिक के उत्पादन के साथ बाजरा का वैश्विक केंद्र बनने की ओर अग्रसर है और एशिया में उत्पादित बाजरे का 80 प्रतिशत से अधिक उत्पादन करता है। इन अनाजों के लिए सबसे पहले साक्ष्य सिंधु सभ्यता में पाए गए हैं और यह भोजन के लिए उपयोग किए जाने वाले पहले पौधों में से एक थे। यह लगभग 131 देशों में उगाया जाता है और एशिया और अफ्रीका में लगभग 60 करोड़ लोगों का पारंपरिक भोजन है।




Related news