नई दिल्ली: केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा की स्थिति पर चर्चा के लिए उच्च स्तरीय बैठक करने वाले हैं। आतंकवादियों द्वारा घाटी में लक्षित हत्याओं को अंजाम दिए जाने के बीच 15 दिन से भी कम समय में इस तरह की यह दूसरी बैठक होगी। अधिकारियों ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल मनोज सिन्हा, केंद्र सरकार और केंद्र शासित प्रदेश के वरिष्ठ अधिकारी बैठक में भाग लेंगे, जिसमें कोविड-19 महामारी के कारण दो साल के अंतराल के बाद होने वाली वार्षिक अमरनाथ यात्रा की व्यवस्था का जायजा लिए जाने की भी उम्मीद है। कश्मीर मुद्दे पर एक पखवाड़े से भी कम समय में यह दूसरी उच्च स्तरीय बैठक है।पिछली बैठक में गृहमंत्री ने सक्रिय और समन्वित आतंकवाद रोधी अभियानों की वकालत की थी। साथ ही सुरक्षा बलों को सीमा पार घुसपैठ की घटनाएं न हों, यह सुनिश्चित करने और केंद्र शासित प्रदेश से आतंकवाद का सफाया करने के लिए कहा था।

यह बैठक मंगलवार को कुलगाम में जम्मू क्षेत्र के सांबा जिले की रहने वाली एक महिला शिक्षक सहित तीन लक्षित हत्याओं को अंजाम देने वाले आतंकवादियों के मद्देनज़र होगी। 2012 से प्रधानमंत्री पैकेज के तहत काम करने वाले कश्मीरी पंडित घाटी में उनका स्थानांतरण सुरक्षित स्थान पर करने को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।



Related news