गाजियाबाद: उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में आवारा कुत्ते के हमले में घायल एक साल की रिया का ऑपरेशन हो गया है। बच्ची की हालत लगातार बिगड़ रही थी। कोई प्लास्टिक सर्जन नहीं मिल रहा था। फिर एमएमजी जिला अस्पताल के ईएनटी और जनरल सर्जन ने मासूम का ऑपरेशन किया। 2 घंटे चली सर्जरी में चेहरे पर दोनों ओर 120 टांके लगाने पड़े हैं। रिया की हालत अभी गंभीर बनी हुई है। अस्पताल प्रबंधन ने बताया ऑपरेशन में ध्यान रखा गया कि बच्ची का चेहरा खराब न हो। करीब 10 दिनों तक डॉक्टरों की निगरानी में अस्पताल में रखा जाएगा। रिया को स्ट्रे डॉग ने शनिवार को नोच लिया था। चेहरे पर गंभीर जख्म हुए हैं।

विजय नगर के बहरामपुर में रहने वाली मासूम रिया को स्ट्रे डॉग ने नोच लिया था। गंभीर हालत में पिता उसे एमएमजी अस्पताल ले गए, जहां से चाइल्ड पीजीआई नोएडा के लिए रेफर किया गया था। आरोप है कि वहां डॉक्टरों ने इलाज नहीं किया। बच्ची के मां-बाप फिर निजी अस्पताल ले गए। शुरुआती इलाज के बाद उसकी हालत बिगड़ने लगी तो रविवार को फिर एमएमजी अस्पताल ले आए। वहां बच्ची को भर्ती कर इलाज शुरू किया गया। अस्पताल प्रबंधन ने मेरठ मेडिकल कॉलेज और दिल्ली के सरकारी अस्पतालों से प्लास्टिक सर्जन से समय मांगा, लेकिन कोई सर्जन नहीं मिल सका। दूसरी तरफ बच्ची की हालत लगातार बिगड़ रही थी। जान बचाने के लिए ईएनटी सर्जन डॉ राकेश कुमार और जनरल सर्जन डॉ महेंद्र ने सोमवार को बच्ची का ऑपरेशन किया।

सर्जन डॉ राकेश ने बताया कि बच्ची सिर्फ एक साल की है और उसके चेहरे पर दोनों तरफ गहरे जख्म हैं। घटना को दो दिन हो चुके हैं। घाव खराब हो रहे थे। संक्रमण बढ़ने लगा तो सर्जरी जरूरी हो गई। पहले डेड स्किन को हटाया गया। सर्जरी में इस बात का ध्यान रखा गया कि मासूम का चेहरा खराब न हो। दो घंटे तक ऑपरेशन चला और चेहरे के दोनों ओर छोटे-छोटे टांके लगाने पड़े। बच्ची बड़ी होगी तो टांकों का निशान ज्यादा नहीं दिखेंगे। अभी उसे 5 से 10 दिनों तक अस्पताल में ही रखा जाएगा। एमएमजी जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ मनोज चतुर्वेदी ने कहा कि बच्ची की सर्जरी सफल रही है। उसकी हालत स्थिर है। 120 टांके लगाने पड़े हैं। बच्चा वॉर्ड में शिफ्ट कर हालत पर नजर रखी जा रही है। 5-10 दिन तक अस्पताल में रखा जाएगा।






Related news