रियाद: सऊदी अरब की राजधानी रियाद के दक्षिण-पश्चिम इलाके में एक 8000 साल पुराने पुरातात्विक स्थल की खोज हुई है। सऊदी अरब देश के अल-फॉ की साइट पर ये जगह मिली है। इस स्टडी में हाई क्वालिटी की एरियल फोटोग्राफी, कंट्रोल प्वाइंट के साथ ड्रोन फुटेज, रिमोट सेंसिंग, लेजर सेंसिंग और कई अन्य सर्वे का इस्तेमाल किया गया। 

वंडर वुमेन फेस्ट में बीबा, वेरो मोडा और अधिक जैसे शीर्ष ब्रांडों को 70 प्रतिशत तक की छूट पर एक्सप्लोर करें, अब 30 जुलाई तक लाइव, सर्वोत्तम ऑफ़र प्राप्त करने के लिए अभी खरीदारी करें। इस साइट पर कई खोजों के साथ सबसे महत्वपूर्ण एक मंदिर है। यहां एक वेदी के कुछ हिस्सों के अवशेष मिले हैं। इससे स्पष्ट संकेत हैं कि यहां उस समय ऐसे लोग रहते थे जिनके जीवन में समारोहों, पूजा और अनुष्ठान महत्व रखता था। इस मंदिर का नाम रॉक-कट मंदिर है जो माउंट तुवाईक के किनारे पर स्थित है, जिसे अल-फ़ॉ के नाम से जाना जाता है।नई टेक्नोलॉजी के जरिए ही नवपाषाणकालीन मानव बस्तियों के अवशेषों का पता लगाने में सफलता मिली है। इसके साथ ही पूरे स्थल पर 2,807 कब्र मिली हैं जो अलग-अलग समय की हैं। इन्हें छह ग्रुपों में बांटा गया है। यहां मैदान को भक्तिशिलालेखों से सजाया गया था जो उस समय अल-फ़ॉ के लोगों की धार्मिक मान्यताओं की झलक देता है। 

जबल लाहक अभयारण्य एक शिलालेख है जो अल-फ़ॉ के एक देवता कहल का जिक्र करता है।इस साइट पर सांस्कृतिक संपदा के अलावा एक सुनियोजित शहर का पता चला है। जिनके कोने पर चार टावर हैं। इस पुरातात्विक अध्ययन से दुनिया की सबसे शुष्क भूमि और कठोर रेगिस्तानी वातावरण में नहरों, पानी के कुंड और सैंकड़ों गड्डों सहित एक जटिल सिंचाई प्रणाली का खुलासा हुआ है। 




Related news