रुड़की (दैनिक हाक): भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की विकास फाउंडेशन ने संतोष कुमार को अपना पहला सीईओ नियुक्त किया। आईआईटी रुड़की ने कहा कि श्री संतोष आईआईटीआरडीएफ की दृष्टि और रणनीति को ध्यान में रखते हुए भारत के सबसे पुराने और सबसे प्रतिष्ठित संस्थान में से एक आईआईटी रुड़की के लिए अभिनव विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लिए दीर्घकालिक विकास और आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए धन जुटाने के प्रयासों का नेतृत्व करेंगे। सीईओ श्री संतोष कुमार भारत और दुनिया-भर में पूर्व छात्रों, कॉरपोरेट्स और परोपकारी लोगों सहित बाहरी हितधारकों के साथ संबंधों के निर्माण और पोषण में प्रेरक शक्ति होंगे। इस अवसर पर बोलते हुए, आईआईटी रुड़की के निदेशक प्रोफेसर अजीत चतुर्वेदी ने कहा, ''हम श्री संतोष कुमार का स्वागत करने के लिए उत्साहित हैं और उनसे आईआईटीआरडीएफ के नेतृत्व की आशा करते हैं ताकि फाउंडेशन सभी संभावित हितधारकों के साथ दीर्घकालिक संबंध विकसित कर सके। आईआईटीआरडीएफ संस्थान और उन भागीदारों के बीच संपर्क के रूप में सेवा करके संस्थान की उत्कृष्टता की खोज को सक्षम करेगा जो संस्थान के दृष्टिकोण से जुड़े हुए हैं। इस प्रकार, आईआईटी रुड़की पर परिवर्तनकारी प्रभाव के लिए आईआईटीआरडीएफ हमारे पूर्व छात्रों, कॉरपोरेट्स और परोपकारी लोगों से जुड़ेगा।

आईआईटी रुड़की में हम सब यह आशा रखते हैं कि आईआईटीआरडीएफ दुनिया-भर के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों और संस्थानों से जुड़े विकास नींव के अंतर्राष्ट्रीय मानकों तक पहुँचे। इसके लिए आईआईटी रुड़की के दीर्घकालिक उद्देश्यों और संस्थागत और व्यक्तिगत भागीदारी को बढ़ावा देने के अनुरूप एक दृष्टि और रणनीति की आवश्यकता है। संस्थान की फंड रेजिंग की पहल के लिए सक्रिय रूप से संकाय, कर्मचारियों और छात्रों को राजदूत के रूप में शामिल करने के लिए आईआईटीआरडीएफ प्रयासरत होगा।''

आईआईटी के बोर्ड की अध्यक्षता प्रोफेसर अजीत चतुर्वेदी, निदेशक आईआईटी रुड़की, और प्रोफेसर मनोरंजन परिदा, उप निदेशक, आईआईटी रुड़की, प्रोफेसर मुक्त ( मुकट) लाल शर्मा, डीन वित्त और योजना, आईआईटी रुड़की, प्रोफेसर मनीष श्रीखंडे, डीन,आईआईटी रुड़की, प्रोफेसर भोला राम गुर्जर, प्रोफेसर सिविल इंजीनियरिंग विभाग, आईआईटी रुड़की और प्रोफेसर पार्थ रॉय, डोरा, आईआईटी रुड़की बोर्ड के सदस्य के रूप में इन सभी द्वारा की जाती है। श्री संतोष कुमार, सीईओ, आईआईटी रुड़की डेवलपमेंट फाउंडेशन, जो बीआईटी सिंदरी, धनबाद से केमिकल इंजीनियरिंग में स्नातक और एचईसी पेरिस से एक्जीक्युटिव एमबीए हैं। श्री संतोष कुमार के पास पॉलीमर, मेटल और एफएमसीजी विनिर्माण क्षेत्रों में विविध हितधारकों और संगठनों के साथ काम करने की एक समृद्ध कुशाग्रता के साथ सिद्ध नेतृत्व में उन्नीस वर्षों का अनुभव है। वह संबंध बनाने, व्यवसाय विकास, बहुसांस्कृतिक टीम निर्माण, हितधारक प्रबंधन, पी एंड एल प्रबंधन और भारत और मध्य पूर्व दोनों क्षेत्रों में स्क्रैच द्वारा मेगा ग्रीन फील्ड परियोजनाओं को रणनीतियों की मदद से लागू करने में कुशल है।

श्री संतोष कुमार, सीईओ, आईआईटीआरडीएफ ने कहा, ''मैं भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की की महान टीम का हिस्सा बनकर सम्मानित महसूस कर रहा हूं।आईआईटी रुड़की एक वैश्विक ब्रांड है जिसे उत्कृष्टता की खोज के 175 वर्षों में दृढ़ता के साथ बनाया गया है। यह मेरा प्रयास होगा कि मैं आईआईटीआरडीएफ को एक विश्व स्तरीय पेशेवर प्रबंधित संगठन के रूप में विकसित करूं, जो डिजिटल और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर विज़िबल रूप से प्रतिष्ठा बढ़ाने के लिए प्रौद्योगिकी और सर्वोत्तम प्रथाओं को अपनाए। आईआईटी रुड़की के संकाय और विभागों के साथ अपने संबंधों को आगे बढ़ाते हुए, आईआईटीआरडीएफ पथ-प्रदर्शक अनुसंधान और नवाचारों की तलाश में कॉर्पोरेशन को भी चैंपियन के रूप में लाता है, जो दुनिया को बड़े पैमाने पर लाभान्वित करते हैं"।



Related news