लखनऊ: यूपी की योगी सरकार के दूसरे कार्यकाल में अब बजट पर ध्यान दिया जा है। इसमें खास ध्यान बीजेपी के चुनावी संकल्प पत्र में किये गये वादों को पूरा करने के अलावा रोजगार और युवाओं, कृषि तथा ढांचागत विकास पर दिया जा रहा है। अनुमान है कि इन सब के लिए 6 लाख करोड़ की व्यवस्था करनी होगी। वित्त विभाग योगी सरकार-2 के 2022-23 के बजट को अंतिम रूप देने में जुटा है। बजट में 1.65 लाख करोड़ रुपए सरकारी विभाग एवं उपक्रमों के कर्मचारियों के वेतन के लिए निर्धारित किया जा सकता है। शेष राशि विकास और अन्य कल्याणकारी योजनाओं पर खर्च की जाएगी।

 इसके अलावा बजट में पीडब्ल्यूडी के हिस्से में 30 हजार करोड़ रुपए आने की उम्मीद जताई जा रही है। बजट में नए विश्वविद्यालय और आईटीआई की स्थापना पर भी फोकस दिखेगा। उम्मीद जतायी जा रही है कि ओडीओपी के बजट में भी उल्लेखनीय वृद्धि की संभावना है। इसी तरह सिंचाई विभाग को बजट में 20 हजार करोड़ से ज्यादा रुपये मिलने की उम्मीद है। इतना ही नहीं सरकार किसानों को मुफ्त बिजली योजना के लिए भी बजट में प्रावधान कर सकती है।

 योगी सरकार अपने दूसरे कार्यकाल के पहले बजट में टमाटर, आलू और प्याज जैसी फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी की भी व्यवस्था करेगी। इसके अलावा छुट्टा पशुओं से किसानों को निजात दिलाने के लिए भी सरकार बजट में प्रावधान कर सकती है। इसके अलावा प्राकृतिक खेती, मेगा फूडड पार्क की स्थापना पर भी फोकस रहेगा ताकि कृषि उपज की मांग में स्थायी वृद्धि हो सके।





Related news