श्रीनगर: 30 जून को शुरू हुई अमरनाथ यात्रा के बाद से अभी तक 2.29 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने गुफा मंदिर के दर्शन किए। अधिकारियों ने जम्मू-श्रीनगर हाईवे के अवरुद्ध होने के कारण जम्मू में तीर्थयात्रियों के एक जत्थे को रोक दिया। अधिकारियों ने बताया कि 300 किलोमीटर से अधिक लंबे जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर लगातार बारिश के कारण कुछ हिस्सों में पत्थरबारी और भूस्खलन हुआ है।

अधिकारियों ने कहा, "शुक्रवार को हाइवे पर किसी भी तरह के यातायात की अनुमति नहीं दी जाएगी। जम्मू से घाटी की ओर यात्रियों की आवाजाही की मंजूरी नहीं दी जाएगी।"अब तक 22 दिनों में 2,29,744 यात्रियों ने गुफा मंदिर में दर्शन किए। गुरुवार को 10,310 तीर्थयात्रियों ने अमरनाथ की यात्रा की। तीर्थयात्री या तो छोटे उत्तरी कश्मीर बालटाल मार्ग से या लंबे दक्षिण कश्मीर पहलगाम मार्ग से गुफा मंदिर तक पहुंचते हैं।

बालटाल मार्ग का उपयोग करने वालों को गुफा मंदिर तक पहुंचने के लिए 14 किमी की चढ़ाई करनी पड़ती है। इस मार्ग का उपयोग करने वाले तीर्थयात्री दर्शन करने के बाद उसी दिन आधार शिविर में लौट आते हैं। पारंपरिक पहलगाम मार्ग का उपयोग करने वालों को गुफा मंदिर तक पहुंचने के लिए 4 दिनों के लिए 48 किमी की यात्रा करनी पड़ती है। तीर्थयात्रियों के लिए दोनों मार्गो पर हेलीकॉप्टर सेवाएं उपलब्ध हैं। अमरनाथ यात्रा 11 अगस्त को रक्षा बंधन के अवसर पर श्रावण पूर्णिमा को समाप्त होगी।






Related news