नई दिल्ली: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि 2024 का लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए विपक्षी दलों के एकजुट होने की प्रबल संभावना है। उन्होंने विपक्षी दलों के साथ सार्थक वार्ता होने और आने वाले समय में उनमें से कई के साथ आने का जिक्र करते हुए यह कहा। बिहार के मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘धीरे-धीरे कई दल साथ आएंगे और इसकी प्रबल संभावना है कि वे 2024 का चुनाव साथ मिल कर लड़ेंगे।'' उन्होंने कहा कि विभिन्न दलों के नेताओं के साथ उनकी सार्थक बातचीत हुई है। यह पूछे जाने पर कि क्या कांग्रेस से दूरी रखने वाली तृणमूल कांग्रेस(टीएमसी) और आम आदमी पार्टी (आप), दोनों ही इस तरह के गठबंधन का हिस्सा होंगी, उन्होंने कहा कि विपक्षी दलों के बीच गठबंधन के बारे में समझौता होने के बाद ही कुछ ठोस बात कही जा सकती है।

उन्होंने कहा कि जिन नेताओं से उन्होंने मुलाकात की है, मीडिया को उस बारे में जानकारी होगी। कुमार ने राष्ट्रीय राजधानी की अपनी पिछली यात्रा के दौरान दिल्ली के मुख्यमंत्री एवं आप नेता अरविंद केजरीवाल से मुलाकात की थी। टीएमसी सुप्रीमो और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी हाल में कहा था कि वह कुमार, राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के तेजस्वी यादव, समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव के साथ मिलकर भाजपा को हराएंगी।

जनता दल (यूनाइटेड) के वरिष्ठ नेता ने एकजुटता के लिए बातचीत करने को लेकर विपक्ष पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा बार-बार निशाना साधे जाने को तवज्जो नहीं देते हुए कहा कि सत्तारूढ़ दल (भाजपा) की अपनी ही कई समस्याएं हैं। उन्होंने संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा, ‘‘वे बस दिन-रात बोल सकते हैं।''

कुमार ने रविवार को राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव के साथ कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। इससे पहले की यात्रा के दौरान उन्होंने कई अन्य विपक्षी नेताओं से मुलाकात की थी। रविवार को कुमार, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता शरद पवार और विपक्ष के कई अन्य प्रमुख नेताओं ने हरियाणा के फतेहाबाद जिले में एक रैली में 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए एक नये गठबंधन का आह्वान किया था, जिसमें कांग्रेस को भी शामिल करने की बात कही गई थी। 



Related news