Top
Home > जीवनशैली > स्वास्थ्य और फिटनेस > इंटरनेट के कारण 12 फ़ीसदी छात्र भारी तनाव में

इंटरनेट के कारण 12 फ़ीसदी छात्र भारी तनाव में

इंटरनेट के कारण 12 फ़ीसदी छात्र भारी तनाव में
X

नई दिल्ली: अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ने हाल ही में इंटरनेट का असर छात्रों पर किस तरह से पड़ा है, इसका अध्ययन किया है। भारत सहित 8 देशों में किए गए, इस अध्ययन में 2643 छात्रों का परीक्षण किया गया। इसकी रिपोर्ट अंतर्राष्ट्रीय मेडिकल जनरल एशियन जनरल आफ साइकेट्री में प्रकाशित हुई है।

एम्स के मनोचिकित्सा विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉक्टर यतन पाल सिंह ने जानकारी देते हुए कहा, कि दुनिया भर में इंटरनेट का उपयोग बड़ी तेजी के साथ बढ़ रहा है। हर जरूरी चीज के लिए इंटरनेट का सहारा लेना पड़ता है। लेकिन इसका असर लोगों के व्यवहार पर पड़ रहा है। इसको जानने के लिए वैश्विक स्तर पर अध्ययन किया गया था।

इस अध्ययन में भारत, बांग्लादेश, नेपाल, संयुक्त अरब अमीरात, तुर्की, क्रोएशिया, सर्विया और वियतनाम के कॉलेजों के 2643 छात्रों को शामिल किया गया था। इस अध्ययन के निष्कर्ष में यह खुलासा हुआ है, कि कॉलेजों में पढ़ने वाले 12.2 फ़ीसदी छात्र इंटरनेट के कारण मानसिक अवसाद और तनाव से गुजर रहे हैं। इसके पहले यह माना जा रहा था, कि इंटरनेट की लत से छोटे बच्चे और स्कूली छात्र ही प्रभावित हो रहे हैं। लेकिन इस निष्कर्ष के बाद यह खुलासा हुआ है, कि कॉलेज के छात्र भी इंटरनेट के अवसाद से बुरी तरह प्रभावित हैं।

Updated : 9 Sep 2019 11:53 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top