Top
Home > जीवनशैली > स्वास्थ्य और फिटनेस > एशियाई और यूरोपीय लोगों को ज्यादा होता है डेंगू का खतरा: शोध

एशियाई और यूरोपीय लोगों को ज्यादा होता है डेंगू का खतरा: शोध

एशियाई और यूरोपीय लोगों को ज्यादा होता है डेंगू का खतरा: शोध
X

वाशिंगटन: एक शोध में सामने आया है कि एशियाई और यूरोपीय लोगों को डेंगू का सबसे ज्यादा खतरा होता है। दोनों महाद्वीपों में रहने वाले लोगों की जीन संरचना उन्हें इस बीमारी के प्रचंड रूप के प्रति संवेदनशील बनाती है। बढ़ते वैश्वीकरण और जलवायु परिवर्तन के कारण ऊष्णदेशीय संक्रमण पूरे विश्व में फैल रहे हैं। हालांकि, यह जरूरी नहीं है कि दुनिया के सभी देशों की आबादी इसके प्रति संवेदनशील हो। शोधकर्ताओं ने कहा एशियाई और यूरोपीय लोगों में (आई3एस) जीन समान रूप से मौजूद हैं। इस कारण इन दोनों ही महाद्वीपों के लोगों को अफ्रीकी मूल के लोगों के मुकाबले डेंगू के गंभीर रूप के प्रति अधिक संवेदनशील हैं। इन्हें डेंगू शॉक सिन्ड्रोम होने की आशंका भी अन्य के मुकाबले अधिक होती है।

पूर्वी एशिया और अमेरिका के ऊष्णकटिबंधीय क्षेत्र में डेंगू बुखार स्थानिक है। मगर इस बीमारी के लिए जिम्मेदार विषाणु के वाहक एडीज जीनस मच्छरों के हाल ही में उत्तरी अमेरिका और यूरोप में फैलने के साथ ही इन क्षेत्रों में भी यह बीमारी पहुंच गई है। डेंगू के विषाणुओं के कारण साधारण से गंभीर परिस्थिति पैदा हो सकती है। इससे आमतौर पर होने वाला बुखार हानिकारक डेंगू शॉक सिंड्रोम (डीएसएस) भी हो सकता है। दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों में डेंगू का प्रचंड रूप देखने को मिलता है और इसके लिए स्थानीयता को काफी समय से जिम्मेदार माना जाता रहा है। यह बात पूर्व में हुए एपिडेमियोलॉजिकल रिसर्च में भी सामने आई है। हालांकि जेनेटिक संरचना के कारणों के बारे में अब तक कोई शोध नहीं हुआ था। एक नए शोध में थाईलैंड के तीन अस्पतालों में 2000 और 2003 के बीच डेंगू का दंश झेलने वाले 411 मरीजों के आंकड़ों का अध्ययन किया।


Updated : 31 Aug 2019 11:12 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top