Top
Home > जीवनशैली > स्वास्थ्य और फिटनेस > प्रदूषण से घट रही फेफड़ों की कार्य क्षमता

प्रदूषण से घट रही फेफड़ों की कार्य क्षमता

प्रदूषण से घट रही फेफड़ों की कार्य क्षमता
X

लंदन: एक हालिया शोध के अनुसार वायु प्रदूषण के कारण फेफड़ों में क्रॉनिक ऑब्स्ट्रक्टिव पलमोनरी डिसऑर्डर (सीओपीडी) होने का खतरा बढ़ गया है। सीओपीडी फेफड़ों की कार्यक्षमता घटने से संबंधित एक बीमारी है। इस बीमारी में फेफड़ों में मौजूद सांस खींचने के रास्ते धीरे-धीरे संकरे होकर बंद हो जाते हैं। इससे सांस लेने में परेशानी होती है। इस बीमारी के कारण फेफड़े जल्दी बूढ़े हो जाते हैं और सांस संबंधी कई बीमारियां लोगों को घेर लेती हैं। ग्लोबल बर्डन ऑफ डिजीज प्रोजैक्ट के अनुसार सीओपीडी दुनिया भर में मौतों का तीसरा सबसे बड़ा कारण है। दुनिया भर में सीओपीडी से संबंधित मौतों के आंकड़ों में अगले 10 सालों में तेजी से बढ़ोतरी हो सकती है। प्रदूषण किस कदर खतरनाक हो सकता है इसका आप अंदाजा भी नहीं लगा सकते हैं। प्रदूषण बच्चों की बुद्धि को कम कर रहा है। साथ ही उनके दिमाग को कई तरह से नुकसान पहुंचा रहा है। कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के ताजा शोध के मुताबिक प्रदूषण से बच्चों का आईक्यू 7 अंक तक घट सकता है। इस अध्ययन के मुताबिक प्रदूषित इलाके में रहने वाली महिला गर्भवती होने के बाद वहां रहती है तो उसका असर उसके बच्चे पर भी पड़ता है। शोधकर्ताओं का कहना है कि प्रदूषित कण गर्भनाल को प्रभावित करने के साथ सीधे बच्चे तक पहुंच कर उसके दिमाग को भी क्षतिग्रस्त कर सकते हैं। इसमें कहा गया है कि प्रदूषित इलाके में रहने वाली महिलाओं के 4 साल के बच्चे का आई।क्यू। औसत 215 अंक तक और अधिकतम 618 अंक कम पाया गया है। गर्भावस्था में धूप कम सेंकने से बच्चों में सीखने की क्षमता कम होती है। गर्भावस्था में अगर सही मात्रा में धूप न ली जाए और कम अल्ट्रावायलट एक्सपोजर मिले तो बच्चों में लॄनग डिसेबिलिटी यानी कुछ भी न सीखने की स्थिति का खतरा बढ़ जाता है। हाल ही में किए गए एक शोध में इस बात का दावा किया गया है। यूनिवर्सिटी ऑफ ग्लास्गो के शोधकत्र्ताओं द्वारा किए शोध में गर्भावस्था के दौरान धूप न मिल पाने और लॄनग डिसेबिलिटी के बीच एक महत्वपूर्ण संबंध देखने को मिला। शोधकर्ताओं का मानना है कि वायु प्रदूषण कई बीमारियों का कारण बन रहा है। सांस संबंधी बीमारियों के कारण दुनिया भर में लाखों लोगों की मौत हो रही है। वायु प्रदूषण के सम्पर्क में आने से फेफड़ों की कार्यक्षमता घट रही है और फेफड़े जल्दी बूढ़े हो रहे हैं।


Updated : 23 July 2019 9:16 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top