Top
Home > जीवनशैली > स्वास्थ्य और फिटनेस > मुंहासे हैं तो तेज मसालेदार चीजों के सेवन से बचे

मुंहासे हैं तो तेज मसालेदार चीजों के सेवन से बचे

मुंहासे हैं तो तेज मसालेदार चीजों के सेवन से बचे
X

लंदन: कील-मुंहासे ज्यादातर हॉर्मोनल बदलावों या खान-पान की गड़बड़ी के कारण निकलते हैं। इसके अलावा तनाव, प्रदूषण, तैलीय त्वचा, मेकअप के साइड इफेक्ट्स के कारण भी कई बार कील-मुंहासे हो जाते हैं। मुंहासे हमारी त्वचा की एक आम समस्या हैं। जल्दी पचने वाले खाद्य पदार्थों में खास तौर पर रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट होता है जैसे कैंडी, कुकीज या वाइट ब्रेड। इन उत्पादों के सेवन से पिंपल होते हैं क्योंकि इनसे ब्लड शुगर की मात्रा बढ़ती है और हॉर्मोंस में उतार चढ़ाव होता है। अगर आपको मुंहासे हैं तो तेज मसालेदार चीजों के सेवन से परहेज क्योंकि तेज मिर्च वाले खाने से शरीर का तापमान बढ़ता है और ये त्वचा में जलन और मुंहासे पैदा करते हैं। हां, अगर आपको मुंहासे नहीं हैं तो आप स्वाद के लिए कभी कभार मसालेदार भोजन कर सकते हैं। चॉकलेट पिंपल पैदा करने वाले मुख्य कारणों में से एक है। चॉकलेट में डेयरी उत्पाद, रिफाइंड शुगर और कैफीन की अधिकता होती है और ये सब पिंपल पैदा करने वाले कारकों में शामिल हैं। थोड़ी बहुत चॉकलेट खाने में कोई बुराई नहीं है लेकिन इसे आदत बनाना सेहत और स्किन दोनों के लिए अच्छा नहीं है। सैलमन, सरडाइंस और ट्यूना जैसी मछलियों में ओमेगा-3 फैटी ऐसिड होता है। ये फैटी ऐसिड शरीर में सेल्स के निर्माण में महत्वपू्र्ण भूमिका निभाते हैं। इसलिए त्वचा के लिए ये फैटी ऐसिड्स बहुत फायेदमंद होते हैं। खीरा और तरबूज में भरपूर मात्रा में पानी होता है। ये पानी आपके शरीर को हाइड्रेट रखता है। इससे त्वचा में नमी बनी रहती है। कुछ लोगों में त्वचा के रूखेपन के कारण भी पिंपल की समस्या हो जाती है। काजू सभी ड्राईफ्रूट्स में खास होता है क्योंकि इसमें भरपूर मात्रा में जिंक होता है। कई बार शरीर में मिनरल्स की कमी के कारण भी पिंपल निकल आते हैं। जिंक शरीर की सूजन को कम करता है और इम्यूनिटी को बढ़ाता है इसलिए इसे खाने से कील-मुंहासों में राहत मिलती है। प्रोबायोटिक फूड में न्यूट्रीशन्स बहुत ज्यादा होते हैं।

Updated : 13 Jan 2019 9:19 PM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top