Top
Home > शहर > अन्य शहर > नई दिल्ली > दिल्ली की नाकेबंदी को सड़क पर उतरे किसान

दिल्ली की नाकेबंदी को सड़क पर उतरे किसान

दिल्ली की नाकेबंदी को सड़क पर उतरे किसान
X

नई दिल्ली: केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों को रद्द करने और एमएसपी को कानूनी दर्जा दिए जाने की मांग को लेकर दिल्ली की सीमाओं- सिंघु बॉर्डर, टीकरी बॉर्डर और गाजीपुर बॉर्डर पर जारी किसान आंदोलन को 100 दिन पूरे हो गए हैं। किसान आज केएमपी एक्सप्रेस-वे सहित दिल्ली की ओर आने वाले रास्ते जाम करेंगे। संयुक्त किसान मोर्चा के मुताबिक, सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे तक यह नाकेबंदी रहेगी। केएमपी एक्सप्रेस-वे पर किसान धरना देंगे और टोल पर प्रदर्शन करेंगे। इसके मद्देनजर शुक्रवार देर रात से ही सीमावर्ती इलाकों में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। वहीं केएमपी एक्सप्रेस-वे जुड़े सीमावर्ती इलाकों के जिलाधिकारियों को खुद व्यवस्था पर नजर रखने को कहा गया है। गाजियाबाद-दिल्ली को जोड़ने वाले अप्सरा बॉर्डर पर वाहनों की आवाजाही सामान्य रूप से जारी है। मौके पर एक दरोगा सहित दो सिपाही तैनात हैं। यहां किसानों के आने की कोई सूचना नहीं है। संयुक्त किसान मोर्चा के डॉ. दर्शन पाल सिंह ने बताया कि सिंघु बॉर्डर, टीकरी बॉर्डर से सटे केएमपी एक्सप्रेसवे पर जहां टोल होगा वहां नाकेबंदी होगी। सभी टोल मुफ्त कराएंगे। हम शनिवार को काला दिवस के रूप में मनाएंगे। यह नाकंबेदी पूरी तरह शांतिपूर्ण होगी और किसान इसके जरिए अपने आंदोलन को नई दिशा भी देंगे। नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन शनिवार को 100वें दिन भी जारी है। किसान संगठनों ने अपने 100वें दिन के विरोध प्रदर्शन को दर्ज कराने के लिए कुंडल-मानेसर-पलवल (केएमपी) एक्सप्रेसवे को जाम करने की योजना बनाई है। अब तक, सरकार के साथ हुई सभी बैठकें और बातचीत निरर्थक रहीं है। किसान संगठन कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग पर अड़े हुए हैं।

Updated : 6 March 2021 9:50 AM GMT
Tags:    
Next Story
Share it
Top