Top
Home > शहर > हरिद्वार > भारत विकास परिषद उत्तराखंड पश्चिम प्रान्त महिला एवं बाल विकास टीम द्वारा प्रांतीय संगोष्ठी प्रकृति और हम का आयोजन

भारत विकास परिषद उत्तराखंड पश्चिम प्रान्त महिला एवं बाल विकास टीम द्वारा प्रांतीय संगोष्ठी 'प्रकृति और हम' का आयोजन

भारत विकास परिषद उत्तराखंड पश्चिम प्रान्त महिला एवं बाल विकास टीम  द्वारा  प्रांतीय संगोष्ठी प्रकृति और हम का आयोजन
X

हरिद्वार (दैनिक हाक): *विश्व पर्यावरण दिवस* के उपलक्ष में * भारत विकास परिषद उत्तराखंड पश्चिम प्रान्त महिला एवं बाल विकास टीम, द्वारा प्रांतीय संगोष्ठी *प्रकृति और हम* का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का संचालन प्रांतीय महिला संयोजिका श्रीमती मनीषा सिंहल द्वारा किया गया।

कार्यक्रम मे प्रांतीय अध्यक्ष श्री बृज प्रकाश गुप्ता, *मुख्य वक्ता* डॉक्टर माधवी गोस्वामी ( पूर्व कुल सचिव ,उत्तराखंड आयुर्वेदिक विश्विद्यालय) एवं वक्ता के रूप में प्रख्यात *पर्यावरणविद* श्री जगदीश बाबला जी, विशिष्ट अतिथि श्रीमती सविता कपूर (क्षेत्रीय सचिव महिला एवं बाल विकास) और अतिथि के रूप में डा.रजत अग्रवाल(क्षेत्रीय सचिव संस्कार ) एवम प्रान्तीय महासचिव श्री जे.के.मोंगा जी , प्रांतीय कार्यकारिणी के सभी सदस्यों के साथ साथ सभी प्रांतीय संयुक्त महिला संयोजिकाए,जिला एवं नगर समन्वयन, प्रांत की शाखाओं के सभी पदाधिकारीगण उपस्थित रहे।

कार्यक्रम का आरंभ दीप प्रज्वलन एवं मातृभूमि के चरण वंदन के साथ के साथ हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए प्रांतीय अध्यक्ष महोदय ने सबका मार्गदर्शन किया।

कार्यक्रम की *मुख्य वक्ता माधवी गोस्वामी जी* ने पर्यावरण पर विस्तृत चर्चा करते हुए पर्यावरण के दूषित होने वाले कारणों एवं उससे हमारे जीवन पर पड़ने वाले नकारात्मक प्रभावो को बताते हुए कहा कि यदि इसी प्रकार से हम पर्यावरण को अनदेखा करके नुकसान पहुंचाते रहे तो प्रकृति अपना अस्तित्व खो बैठेगी और वाले समय में पृथ्वी पर जीवन की सारी सम्भावनायें समाप्त हो जाएंगी।

पर्यावरणविद जगदीश बाबला ने प्रकृति के विकासकरी और विनाशकारी रूप की चर्चा करते हुए कहा कि यदि हम प्रकृति का सम्मान करते हैं तो वह खुले हाथों से हमपर अपना खजाना लुटाती है और अपने विकासकरी स्वरूप में वृद्धि करके जीवन को एक स्वस्थ एवं सुदृढ़ आधार प्रदान करती है लेकिन जब

हम प्रकृति का नियम तोड़ते हैं तो हमको निश्चित रूप से उसकी क्रूरता का सामना करना पड़ता है ।प्रकृति के वास्तविक स्वरूप से छेड़छाड़ और निरादर का ही परिणाम है कि आज विषम परिस्थितियों उलझकर जीवन को बचाने के लिए अनेको समस्याओं का सामना कर रहे हैं।

कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य पर्यावरण संरक्षण के लिए सभी को अंदर जागरूकता पैदा करना था।

कार्यक्रम के अंत में प्रांतीय वित्त सचिव जी द्वारा सभी का धन्यवाद किया गया। कार्यक्रम में प्रांत की सभी शाखाओं की सदस्यों ने भागीदारी की।

Updated : 8 Jun 2021 10:34 AM GMT
Next Story
Share it
Top