Top
Home > राज्य > उत्तराखण्ड > उत्तराखंड कौशल विकास मिशन द्वारा उत्तराखंड ग्राम्य विकास एवमं पलायन आयोग के बैनर तले महत्वपूर्ण बैठक आहूत की गई

उत्तराखंड कौशल विकास मिशन द्वारा उत्तराखंड ग्राम्य विकास एवमं पलायन आयोग के बैनर तले महत्वपूर्ण बैठक आहूत की गई

उत्तराखंड कौशल विकास मिशन द्वारा उत्तराखंड ग्राम्य विकास एवमं पलायन आयोग के बैनर तले महत्वपूर्ण बैठक आहूत की गई
X

गैरसैंण (दैनिक हाक): उत्तराखंड कौशल विकास मिशन द्वारा गैरसैंण में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (सीओई) प्रारम्भ किये जाने की दिशा में उत्तराखंड ग्राम्य विकास एवमं पलायन आयोग के बैनर तले महत्वपूर्ण बैठक आहूत की गई, जिसमें पलायन आयोग के उपाध्यक्ष डॉ एस एस नेगी ने कहा कि गैरसैंण क्षेत्र के चहुमुखी विकास के लिए मास्टर प्लान तैयार किया जाना है। ग्रीष्मकालीन राजधानी के लिए आवश्यक मानते हुए उन्होंने कहा कि सीओई के माध्यम से चमोली, अल्मोड़ा, पौड़ी, रुद्रप्रयाग सहित अन्य जनपदों के युवाओं को प्रस्तावित सेंटर में विभिन्न प्रकार के प्रशिक्षण दिए जाएंगे ताकि स्वरोजगार अपना कर युवा अन्य लोगो को भी रोजगार के अवसर प्रदान कर सकेंगे।

गैरसैंण स्थित विकासभवन सभागार में आयोजित चर्चा में आयोग उपाध्यक्ष ने कहा की उत्तराखंड देस का पहला प्रदेस है जहाँ पलायन की जटिलता को समझने व पलायन पर स्थाई रोक लगाने के लिए आयोग का गठन किया गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेस में पलायन के मुख्य कारकों में रोजगार एक बड़ी समस्या के रूप में चिन्हित हुआ है जिसको लेकर सरकार युद्धस्तर पर प्रयास कर रही है। कहा गया कि साथ ही, शिक्षा का अभाव, चिकित्सा सुविधाओं में कमी, निरन्तर कम हो रही कृषि पैदावार, जंगली जानवरों से खेती को हो रहे नुकसान व सड़क, बिजली, पानी जैसी मूलभूत सुविधाओं का अभाव पलायन के मुख्य कारको में शामिल हैं।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी चमोली हंसा दत्त पांडये ने कहा कि स्थानीय उपजों को बढ़ावा दिए जाने के साथ ही उत्पादों को बाजार उपलब्ध करवाने कक दिशा में तेजी से कार्य किये जा रहे हैं। मसरूम, हल्दी, अदरक जैसी फसलों को पैदा करने के साथ ही मधुमक्खी व मत्स्य पालन कर युवा अपनी आर्थिकी को मजबूत कर औरों को भी रोजगार दे सकते हैं तथा बेरोजगारी को हराने में मदद कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि गैरसैंण क्षेत्र में पानी की कमी को दूर करने के लिए रामगंगा की सहायक मौथू गाड़ पर बांध निर्माण कार्य गतिमान है, जिसका कास्तकारों को लाभ मिलेगा।

चर्चा में थराली, कुलसारी, मेहलचोरी, नोटी, कर्णप्रयाग, नारायणबगड़, चौखुटिया आदि के स्वयम सहायता समूह के प्रतिनिधियों द्वारा किये जा रहे प्रयासों कज सराहना की गई। इस मोके पर परियोजना निदेशक कौशल विकाश मिशन डॉ आर राजेश कुमार, मुख्यमंत्री सलाहकार डॉ नरेंद्र सिंह, बीडीओ गैरसैंण बीएस गुसाईं, बीडीओ नारायणबगड़ मोहन सिंह, बीडीओ थराली अशोक के शर्मा, बीडीओ चौखुटिया हर्ष सिंह अधिकारी, डॉ मनीष ठाकुर, बीएल टम्टा, अमर सिंह राणा, बिलेश्वर पन्त सहित बड़ी संख्या में कास्तकार उपस्थित रहे।

Updated : 2020-11-20T19:19:11+05:30
Next Story
Share it
Top