Home > राष्ट्रीय > अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा, आज का दिन ऐतिहासिक, अब देश निर्माण की बारी

अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा, आज का दिन ऐतिहासिक, अब देश निर्माण की बारी

अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा, आज का दिन ऐतिहासिक, अब देश निर्माण की बारी

नई दिल्ली: अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले के बाद शनिवार की शाम को पीएम नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र को संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा,आज सुप्रीम कोर्ट ने उस महत्वपूर्ण मामले पर फैसला सुनाया है,जिसके पीछे सैकड़ों वर्षों का इतिहास है। कुछ लोगों की इच्छा था कि रोजाना सुनवाई हो,वैसा हुआ। आज फैसला आया है।दशकों चली न्याय प्रक्रिया का समापन हुआ है। अब हमें आगे ही आगे बढ़ते जाना है। उन्होंने कहा कि राम मंदिर के निर्माण का फैसला सुप्रीम कोर्ट ने दिया है,अब देश के हर नागरिक पर देश निर्माण का दायित्व बढ़ गया है। पीएम ने आज के दिन को ऐतिहासिक बताते हुए कहा कि आज ही बर्लिन की दीवार गिरी थी। उन्होंने साथ ही कहा कि आज ही के दिन करतारपुर कॉरिडोर का भी उद्घाटन हुआ। करीब 11 मिनट के अपने संबोधन में पीएम ने कहा, पूरी दुनिया मानती है कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है,आज दुनिया ने ये भी जान लिया है कि भारत का लोकतंत्र कितना जीवंत और मजबूत है। फैसला आने के बाद जिस तरह हर वर्ग, हर समुदाय, हर पंथ और पूरे देश ने खुले दिल से इस स्वीकार किया है, वह भारत की पुरातन संस्कृति, परंपराओं और सद्भाव की भावना को दिखाता है।

'अयोध्या पर फैसला सर्वसम्मति से आना खुशी की बात'

पीएम मोदी ने कहा कि भारत के न्यायपालिका के इतिहास में भी आज का दिन स्वर्णिम अध्याय की तरह है। इस विषय पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने सबको सुना और बहुत धैर्य से सुना। पूरे देश के लिए खुशी की बात है कि यह फैसला सर्वसम्मति से आया है। एक नागरिक के नाते हम सब जानते हैं कि परिवार में छोटा मसला सुलझाने के लिए भी दिक्कत होती है, ये कार्य सरल नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने इस फैसले के पीछे दृढ़ इच्छा शक्ति के दर्शन कराए हैं। देश के न्यायधीश, न्यायालय और हमारी न्याय प्रणाली आज विशेष रूप से अभिनंदन के अधिकारी हैं।

पीएम मोदी ने बर्लिन की दीवार गिराने का भी किया जिक्र

पीएम ने कहा,आज 9 नवंबर है। आज के दिन बर्लिन की दीवार गिरी थी। दो विपरीत धाराओं ने एकजुट होकर नया संकल्प लिया था। आज ही के दिन 9 नवंबर को करतारपुर कॉरिडोर की शुरुआत हुई है। इसमें भारत और पाकिस्तान का भी सहयोग रहा है। अयोध्या पर फैसले के साथ ही 9 नवंबर की यह तारीख हमें साथ रहकर आगे बढ़ने की सीख भी दे रही है। आज के दिन का संदेश जोड़ने, जुड़ने और मिलकर साथ चलने का है।


Tags:    
Share it
Top