Home > शहर > शामली > दुकानों के बाहर खड़ा अतिक्रमण शामली शहर के लोगों के लिए बनी समस्या

दुकानों के बाहर खड़ा अतिक्रमण शामली शहर के लोगों के लिए बनी समस्या

दुकानों के बाहर खड़ा अतिक्रमण शामली शहर के लोगों के लिए बनी समस्या

शामली (दैनिक हाक): एक तरफ जाम और दूसरी ओर दुकानों के बाहर खडा अतिक्रमण शहर के लोगों के लिए विकराल समस्या बनकर सामने आ रहा है। पुलिस हो या प्रशासन गरीब ठेली, रेहडा और रिक्शा चालकों के खिलाफ तो कार्यवाही करते नजर आते है, लेकिन दुकानों के बाहर होने वाले अतिक्रमण को हटाने में नाकाम साबित होते है। ऐसे में जहां अपर दोआब शुगर मिल में तकनीकी खराबी के कारण गन्ने से भरे वाहन सडकों पर फैल जाते है तो दुकानों के बाहर होने वाला अतिक्रमण पैदल चलने वालों के लिए भी रास्ता मुश्किलों से भरा बना देता है। अतिक्रमण ने बाजारों की हालत बद से बदतर की दी है, लेकिन कोई भी अधिकारी अतिक्रमण की सुध लेने को तैयार नही है।

वैसे तो शामली शहर को श्याम की नगरी से नाम से पुकारा जाता है, लेकिन पिछले काफी समय से शहर में लगने वाले जाम के कारण शामली को जाम नगरी के नाम से भी जाने जाना लगा है। आये दिन लगने वाले जाम से हालात दिन-बा दिन बद से बदतर होते जा रहे है। जिस कारण शहर के लोगों का जीना मुहाल हो गया है। अपर दोआब शुगर मिल शहर के बीचों बीच आ जाने से भी गन्नो के वाहनों के कारण शहर में जाम लगना आये दिन की बात हो चली है। अपर दोआब शुगर मिल काफी पुरानी हो चुकी है, जिसमें आये दिन तकनीकी शराबी आने के कारण गन्नें के वाहनों की लंबी लंबी कतारे लग जाती है और शहर में जाम की स्थिति पैदा हो जाती है। इसके अलावा शहर में सडकों पर पैर पसार रहा अतिक्रमण भी आये दिन लगाने वाले जाम की मुख्य वजह है। शहर के बाजारों की बात करते तो फव्वारा चैक, कबाडी बाजार, अजुध्या चैक, बडा बाजार, नया बाजार, गांधी चैक, सब्जी मंडी, सदर बाजार में व्यापारियों द्वारा दुकानों के बाहर करीब पांच फुट बाहर सामान रखकर अतिक्रमण किया गया है। दोनों ओर से दुकानदारों द्वारा किए गए अतिक्रमण के कारण बाजारों से कोई वाहन नही निकल पाता है और ई-रिक्शाओं के घुसने मात्र से ही जाम लग जाता है। वैसे तो कोतवाली पुलिस हो गया प्रशासन शहर के मैन रोड पर खडे होने वाले ठेली चालकों के खिलाफ कार्यवाही करते नजर आते है, लेकिन दुकानों के बाहर होने वाले अतिक्रमण के खिलाफ कार्यवाही करने में नाकाम है। कुछ दुकानदारों का कहना है कि बाजारों में दुकानदारों द्वारा एक दूसरे की दुकान को छिपाने के चक्कर में अतिक्रमण किया जा रहा है, जिसकी कई बार दुकानदार ही शिकायत करते है, लेकिन दुकानदार प्रभावशाली होने के कारण पुलिस कार्यवाही करने में नाकाम है। ठेली चालकों से बात की गई तो उन्होने बताया कि वह दुकानदारों को ठेली दुकान के सामने खडी करने के लिए रूपया देते है। जिसके बाद उनकी ठेली दुकान के बाहर खडी हो पाती है, लेकिन कोतवाली पुलिस द्वारा आये दिन मारपीट की जा रही है और ठेली चालकों को जेल भेजा जा रहा है, जबकि दुकानों के बाहर हो रहे अतिक्रमण के खिलाफ पुलिस कोई कार्यवाही करने को तैयार नही है। कई बार उन्होने नगर पालिका अधिकारियों से मुलाकात कर ठेली से व्यापार करने के लिए कोई स्थान चिन्हित कर दिए जाने की मांग की, लेकिन कोई कार्यवाही नही हो सकी। जिससे उनके सामने आर्थिक संकट खडा होता जा रहा है।

बडे़ वाहनों से लगता है जाम

जाम लगने का सबसे बडे कारण की बात करे तो शामली के बीचों बीच शहर के सुभाष चैक से लेकर रेलवे रोड तक व्यापार मंडी स्थित है। जहां आने वाले बडे वाहनों से शहर के शिव चैक पर जाम लग जाता है। मंडी से अधिकतर ओवरलोड वाहनों को शिव चैक से मोडकर निकाला जाता है, जहां रास्ता छोटा होने के कारण वाहन कई बार बीचों बीच फंस जाते है और वाहनों की दोनों ओर कतारे लग जाती है। मंडी समिति द्वारा पूर्व में उक्त दुकानदारों को नोटिस जारी कर नवीन मंडी में व्यापार करने के निर्देश दिए गए, लेकिन कोई कार्यवाही अमल में नही लाई गई।

पूर्व की सरकार कई बार चला चुकी है अतिक्रमण अभियान

शामली शहर के मुख्य बाजारों में लगने वाले जाम की समस्या का समाधान करने के लिए पूर्व की सरकार में कई बार अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया गया, लेकिन जैसे ही अभियान शहर के बाजार में पहुंचता है तो व्यापारियों द्वारा हंगामा कर दिया जाता है, जिसके बाद अभियान को बीच में ही रोक दिया जाता है और दुकानों के बाहर होने वाले अतिक्रमण को पुलिस तथा प्रशासन हटाने में नाकाम रहता है। जिस कारण शहर के बाजारों में पिछले काफी समय से जाम की समस्या का कोई समाधान नही हो सका।

शुगर मिल शुरू होते ही बढ़त है ज्यादा समस्या

अपर दोआब शुगर मिल का पेराई सत्र शुरू होने के साथ ही शहर के मिल रोड, हनुमान रोड, धीमानपुरा, भिक्की मोड, वीवी इंटर कालेज रोड, फव्वारा चैक आदि स्थानों पर लगातार जाम की समस्या बनी रहती है। जिस कारण स्कूली वाहनों के घंटों जाम में फंसे रहने से छात्र-छात्राओं को भी काफी दिक्कते आती है और अभिभावकों तथा स्कूल संचालकों को भी काफी परेशानियों का सामना करना पडता है।

धीमानपुरा फाटक भी है जाम का मुख्य कारण

शामली शहर का धीमानपुरा फाटक भी शहर के जाम की मुख्य वजहों में से एक है। दिन में कई बार फाटक बंद होने के कारण शहर में वाहनों की लंबी लंबी कतारे लग जाती है और गुरूद्वारा तिराहा हो गया फिर धीमानपुरा दोनों ओर जाम की समस्या बनी रहती है, जिससे निजात दिलाये जाने के लिए ट्रेफिक पुलिसकर्मियों को भी भारी मशक्कत करनी पडती है।

Tags:    
Share it
Top