Home > शहर > हरिद्वार > पुलिस ने फर्जीवाड़ा कर सवारियां ढोती तीन बसें पकड़ी

पुलिस ने फर्जीवाड़ा कर सवारियां ढोती तीन बसें पकड़ी

पुलिस ने फर्जीवाड़ा कर सवारियां ढोती तीन बसें पकड़ी

- फर्जीवाड़ा करने वाले ट्रेवल्स स्वामी को किया पुलिस ने गिरफ्तार

- डेढ़ लाख में यात्रियाें को पश्चिम बंगाल, सात-सात सौ रूपये में बरेली ले जा रहे थे

हरिद्वार (दैनिक हाक): चैकिंग के दौरान पुलिस ने फर्जीवाड़ा कर सिडकुल के मजदूराें को ढोकर यूपी और पश्चिम बंगाल ले जाते तीन बसाें को पकड़ा है। जिनमें एक बस में सवार पचास लोगाें को डेढ लाख में पश्चिम बंगाल छोड़ने के नाम पर बुक कराया गया था। जबकि दो बसाें में सिड़कुल के मजदूरों को सात सौ रूपये प्रति सीट के हिसाब से यूपी छोड़ने के नाम बुक किया गया था। पुलिस ने चालकों की जानकारी पर चौधरी ट्रेवल्स स्वामी एवं एजेंट को गिरफ्तार किया है। जिसके खिलाफ कोतवाली नगर पुलिस ने सम्बंधित धाराओं में मामला दर्ज किया है।

कोतवाली नगर प्रभारी निरीक्षक प्रवीण कोश्यारी ने बताया कि बीती देर रात रोड़ीबेल वाला चौकी प्रभारी पवन डिमरी द्वारा चण्डीघाट चौक पर हरिद्वार से नजीवाबाद की ओर जा रही दो बसाें को चैकिंग के लिए रोका गया। पुलिस ने जब बस चालकों से बस की अनुमति मांगी गयी तो उन्हाेंने विंडस्क्रीन पर एक-एक चस्पा फोटो पास दिखाये। उन्हाेंने बताया कि जब चौकी प्रभारी पवन डिमरी ने चस्पा पासाें को गोर से देखा तो प्रथम दृष्ट्या लगे पास कूट रचित पाये गये, चस्पा पासाें में अंकित रजिस्ट्रर बसों के नम्बर भिन्न पाये गये। जब पुलिस ने बस में सवार सवारियाें से पूछताछ की तो उन्हाेंने बताया कि उनको ट्रेवल्स एजेंट द्वारा डेेंसो चौक सिड़कुल से बरेली यूपी के लिए सात-सात रूपये प्रति व्यक्ति की दर से भाड़े में बैठाया गया है। बस चालकों ने पूछताछ के दौरान जानकारी दी कि दोनों बसें चौधरी ट्रेवल्स सैक्टर 2 भेल की है। ट्रेवल्स स्वामी एवं एजेंट अजय चौधरी पुत्र वीरेन्द्र सिंह संचालक चौधरी बस सर्विस निवासी गली नम्बर 8 टिहरी विस्थापित कॉलोनी रानीपुर हरिद्वार के कहने पर मजदूरों को डेंसो चौक सिड़कुल से बरेली छोड़ने जा रहे थे। पुलिस ने आरोपी चौधरी ट्रेवल्स स्वामी एवं एजेंट को गिरफ्रतार करते हुए उसके खिलाफ सम्बंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। श्री कोश्यारी ने बताया कि इसी तरह तड़के चण्डी पुल के पास एक बस जोकि नजीवाबाद की ओर जा रही थी को चैकिंग के लिए चौकी प्रभारी पवन डिमरी द्वारा रोका गया। पुलिस ने जब बस चालक नरेन्द्र पुत्र ब्रहा्रपाल निवासी बयाना मुजफ्रफरनगर यूपी से बस का पास मांगा गया। जिसपर बस चालक ने हरिद्वार जिला प्रशासन द्वारा जारी आवश्यक सामग्री का पास दिखाया गया। जबकि बस में 55 यात्री बैठे पाये गये, जिन्हाेंने पूछताछ के दौरान बताया कि चालक एवं संचालक द्वारा डेढ लाख रूपये उनको पश्चिम बंगाल छोड़ने के लिए गये है। पुलिस ने सवारियाें को वापस भेजकर बस के खिलाफ सीज की कार्यवाही की गयी है।


Tags:    
Share it
Top