Home > शहर > हरिद्वार > अब गंगा रक्षा के लिए रविवार से मातृ सदन में पद्मावती करेंगी आमरण अनशन

अब गंगा रक्षा के लिए रविवार से मातृ सदन में पद्मावती करेंगी आमरण अनशन

अब गंगा रक्षा के लिए रविवार से मातृ सदन में पद्मावती करेंगी आमरण अनशन

हरिद्वार (दैनिक हाक): पर्यावरण की रक्षा के लिए समर्पित संस्था मातृ सदन की अनुयायी पद्मावती कल 15 दिसंबर से गंगा एक्ट बनाने की मांग को लेकर आमरण अनशन पर बैठेंगी। यह जानकारी मातृ सदन के संस्थापक स्वामी शिवानंद सरस्वती ने आज पत्रकारों से बात करते हुए दी। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार से मांग की गई है कि वह जल्दी से जल्दी गंगा एक्ट बनाएं और इसके अलावा उत्तराखंड में प्रस्तावित चार जल विद्युत परियोजनाओं को तुरंत निरस्त करें। साथ ही गंगा नदी के प्रवाह को बढ़ाने के लिए गंगा नदी में समुचित जल छोड़ें।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तो मातृ सदन के पत्र पर जून के महीने में तुरंत कार्रवाई की थी और केंद्रीय जल शक्ति मंत्री ने मातृ सदन की सभी मांगों को मान लेने की बात दिल्ली में मातृ सदन के एक प्रतिनिधिमंडल से भेंट करते हुए कही थी। परंतु राज्य सरकार केंद्र सरकार की मंसाओं पर पानी फेरने में लगी हुई है और गंगा में खनन करवाने पर तुली हुई है। इसलिए श्यामपुर क्षेत्र में गंगा के 2 घाटों पर राज्य सरकार ने खनन करने की अनुमति दे दी है जो नियमों के विपरीत है।

उन्होंने आरोप लगाया कि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत खनन माफियाओं से मिले हुए हैं। इसीलिए उत्तराखंड की सरकार गंगा में हो रहे अवैध खनन को नहीं रोक रही है। उन्होंने हरिद्वार के जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन पर भी खनन माफियाओं से मिलने का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा कि सानंद स्वामी प्रोफेसर जीडी अग्रवाल ने 111 दिन तक गंगा की स्वच्छता के लिए जो उपवास किया था और अपना बलिदान दिया। उनकी मांगों को लेकर पहले ब्रह्मचारी आत्मबोधा नंद ने अनशन किया और केंद्र सरकार के आश्वासन पर उनके अनशन को समाप्त किया गया। अब जब राज्य सरकार हरिद्वार में गंगा पर खुलेआम अवैध खनन करा रही है तो उनके आश्रम की अनुयाई पद्मावती ने गंगा की रक्षा के लिए अनशन करने का निर्णय लिया है।


Tags:    
Share it
Top